Friday, July 2nd, 2021

now browsing by day

 
Posted by: | Posted on: 3 weeks ago

फरीदाबाद निवासी नासिर सरपंच को हरियाणा तालाब एवं अपशिष्ट जल प्रबंधन प्राधिकरण (The Haryana Pond and Waste Water Management Authority) का सदस्य नियुक्त किया गया

हरियाणा सरकार की तरफ से विभिन्न जिलों में जननायक जनता पार्टी के 11 नेताओं को हरियाणा तालाब एवं अपशिष्ट जल प्रबंधन प्राधिकरण (The Haryana Pond and Waste Water Management Authority) का सदस्य नियुक्त किया है। नवनियुक्त सभी सदस्य जिला स्तर पर कॉन्स्टेलेशन व मॉनिटरिंग कमेटी के तौर पर कार्य करेंगे। यह प्राधिकरण सिंचाई व जल संसाधन विभाग (CADA) के अधीन कार्य करेंगे। नवनियुक्त सदस्य भिवानी निवासी एडवोकेट रामेश्वर वाल्मीकि, दादरी निवासी भूपेंद्र सिंह परमार, फरीदाबाद निवासी नासिर सरपंच, हिसार निवासी सज्जन सिंह कालीरमन, जींद निवासी राजबीर उचाना, कैथल निवासी नर सिंह बागल, कुरुक्षेत्र निवासी नरेंद्र घराड़सी, महेंद्रगढ़ निवासी सुरेश पटीकरा, पानीपत निवासी प्रताप सूबेदार, सिरसा निवासी सुखमेंद्र सिहाग व यमुनानगर निवासी अमीत खंडवा को अहम जिम्मेदारी मिलने पर बहुत-बहुत बधाई 💐💐

Posted by: | Posted on: 3 weeks ago

रायन इंटरनेशनलस्कूल, फरीदाबाद में दसवीं कक्षा के लिए “दुनिया भर में कॉफी संस्कृति” विषय पर एक पावर-पॉइंट प्रस्तुति प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव ) | रायन इंटरनेशनलस्कूल, फरीदाबाद में दसवीं कक्षा के लिए “दुनिया भर में कॉफी संस्कृति” विषय पर एक पावर-पॉइंट प्रस्तुति प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था।प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य छात्रों की छिपी प्रतिभा को तराशना और आई एस ए गतिविधि के हिस्से के रूप में निर्दिष्ट देशों में कॉफी प्रवृत्तियों के बारे में ज्ञान प्रदान करने के साथ-साथ उन के रचनात्मक और कलात्मक कौशल की जांच करना था।प्रेजेंटेशन तैयार करते या डिजाइन करते समय ध्यान रखने योग्य कुछ महत्वपूर्ण टिप्स छात्रों के साथ साझा किए गए।हर कक्षा के छात्रों को छह छह छात्रों के दलों में बांटा गया तथा सभी ने अपने दल के साथ रहते हुए इस गतिविधि में भाग लियाजी-6 प्रतियोगिता में सभी छात्रों ने भाग लिया और अच्छा प्रदर्शन किया और निर्दिष्ट देशों (भारत, इथियोपिया, ब्राजील, फिनलैंड) के काफी समारोहों, उत्पत्ति और विकास, उत्पादन, पोषण सामग्री की तुलना के आधार पर ज्ञानवर्धक प्रस्तुति दी, जिससे उन्हें अपने ज्ञान को बढ़ाने में मदद मिली।और इस प्रतियोगिता के उद्देश्य को पूरा किया जा सका।प्रत्येक अनुभाग से सर्वश्रेष्ठ प्रविष्टि का चयन किया गया।उनका मूल्यांकन मौलिकता, डिजाइन उत्कृष्टता और साफ-सफाई के आधार पर किया गया था।प्रतियोगिता छात्रों के लिए एक मनोरंजक और साथ ही सूचनात्मक अनुभव साबित हुई।

Posted by: | Posted on: 3 weeks ago

Could The Trend Reach Indian Shores?

While India has been (Controversial) cases of even septuagenarians using in-vitro fertilisation (IVF) to have children ( a 74 – year old woman from Andhra Pradesh gave birth to twins through IVF in 2019) the trend isn’t exactly mainstream , and it will take a while for it to be.
Dr.ShwetaGupta , Senior Consultant IVF at a Fertility Clinic Gaudium in Delhi, says, “Women see a gradual decline in egg reserves, after the age of 35 and more so post 40, they may need help with IVF to maximise their chances with their own egg or donor eggs.
In India,The Assisted Reproductive Technology (Regulation) Bill, 2020 suggests ART Services can be commissioned in women upto 50 years.
Motherhood at 50 year is usually not recommended as with physiological changes at that Age and especially without Medical fitness assessment a pregnancy can be risky and dangerous one is at risk of Cardiovascular and other Medical and Obstetric problems with adverse neonatal outcomes.”
But she doesn’t rule out the possibility of it becoming a trend in the future- “more women in their 40s and a few has increased to 70s-80s, and there is a reasonably long period of time women spend active after 40 with the Socioeconomic changes today and women marrying late,pregnancies are being pushed back a later stage in life .