लिंग्याज में HR कॉन्क्लेव का आयोजन

Posted by: | Posted on: 3 days ago

फरीदाबाद ( विनोद वैष्णव ) : लिंग्याज विद्यापीठ (डीम्ड-टु-बी) यूनिवर्सिटी में HR कॉन्क्लेव का आयोजन हुआ। जिसमें 500 छात्र-छात्राओं ने रजिस्टेशन किया। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के तौर पर पोस्टरिटी कन्सल्टिंग प्रा. लि. के पार्टनर एंड प्रिंसिपल रायजादा सौरभ बाली, लिंस्कैन इंडिया के टेडएक्स स्पीकर, एचआर एंड डिवेलप्मन्ट मैनेजर प्रणव खरबंदा व शेयर्ड सर्विसिस, HCL टेक्नोलॉजीस में D.G.M, HR पर नियुक्त निखिलेश श्रीवास्तव मौजूद रहे।

रायजादा सौरभ बाली ने दक्षताओं की आवश्यकता पर बल दिया और डिजिटल इंटरैक्शन में वृद्धि पर बात की। प्रौद्योगिकी, इंटरनेट, सूचना, नेटवर्क और बायोटेक लहर अग्रणी है। टेडएक्स स्पीकर प्रणव खरबंदा ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहां कि यह एक ऐसा अंतराष्ट्रीय मंच है जहां अलग-अलग विचारों के लोग अपनी बातों को लोगों के साथ शेयर करते है। वक्ता को 18 मिनट का समय दिया जाता है जिसमें उन्हें अपनी कहानी, काम, आइडिया और विचार लोगों के सामने रखने होते है। वहीं निखिलेश श्रीवास्तव ने HR से जुड़ी बारीखियों को सबके साथ सांझा किया। उन्होंने बताया कि कैंपस प्लेसमेंट में आजकल सिर्फ इंटरव्यू ही नही बल्कि ग्रुप डिस्कशन भी फेस करना होता है। ग्रुप डिस्कशन के लिए आप अपने दोस्तों के साथ एक ग्रुप में शामिल होकर किसी टॉपिक के बारे में डिस्कश करें।

इस दौरान खासतौर पर मौजूद रहें लिंग्याज ग्रुप के चेयरमैन डा. पिचेश्वर गड्डे ने कहां कि जॉब ढूंढने के लिए हमें काफी मशक्कत करनी पड़ती है। अगर आप भी चाहते है कि कैंपस प्लेसमेंट के दौरान ही आपको जॉब मिल जाए तो आपको इसके लिए सही तैयारी करना जरूरी है। हम आपको कैंपस में ही इंटरव्यू क्रैक करने के टिप्स सिखाते है जिनकी मदद से आप अपनी मनपसंद कंपनी में नौकरी हासिल करने में कामयाब हो सकते है। इस अवसर पर वाइस चांसलर प्रो (डॉ). जी.जी. शास्त्री, प्रो वाइस चांसलर प्रो. जसकिरण कौर व  प्रों वाइस चांसलर आरएनडी डॉ. जी.एम.पाटिल भी उपस्थित रहें। मंच का संचालन प्लेसमेंट एंड कॉरपोरेट रिलेशन आफिसर विक्रांत अग्रवाल ने किया।  


एम वी एन विश्वविद्यालय में दो दिवसीय फैकेल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन

Posted by: | Posted on: 4 days ago

एम वी एन विश्वविद्यालय के इंटरनल क्वालिटी एश्योरेंस सेल के तत्वाधान में दो दिवसीय फैकेल्टी डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन किया गया जिसका विषय “रिसर्च मेथोडोलॉजी एंड सर्वे डेटा एनालिसिस” था। इस दौरान देश विदेश के विभिन्न संस्थानों से 524 प्रतिभागी ने हिस्सेदारी दिखाई। कार्यकर्म की शुरुआत कुलपति प्रोफेसर जे वी देसाई, उपकुलपति प्रोफेसर एन पी सिंह, कुलसचिव प्रोफेसर राजीव रत्न और विभिन्न विभागों के डीन ने दीप प्रज्वलित करके किया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर जे वी देसाई ने रिसर्च के देश विदेश में बढ़ते प्रभाव और इसके महत्व के बारे मे बताया । स्कूल ऑफ मैनेजमेंट साइंस के प्रोफेसर एस सी मनचंदा ने रिसर्च के प्रकार, डिजाइन इत्यादि के विषय पर प्रकाश डाला। विश्वविद्यालय के उप कुलपति प्रोफेसर एन पी सिंह ने रिसर्च फार्मेशन और इसके टेस्टिंग के साथ साथ डेटा को एनालाइज करने के तरीके पर प्रकाश डाला। लालबहादुर शास्त्री इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के डॉ आंचल गुप्ता ने रिसर्च में एम सी डी एम तकनीक का प्रैक्टिकली इस्तेमाल करना सिखाया। स्कूल और फार्मास्यूटिकल साइंस के डीन तरुण विरमानी ने जोटेरो रेफरेंस सॉफ्टवेयर के आसान इस्तेमाल के बारे में समझाया। विश्वविद्यालय के डीन रिसर्च डॉ सचिन गुप्ता ने मशीन लर्निंग का इस्तेमाल करके डेटा को हैंडल करने के बारे में विस्तार से समझाया। कार्यक्रम के अंत में विश्वविद्यालय के आई क्यू ए सी डिप्टी डायरेक्टर दया शंकर प्रसाद ने सभी का धन्यवाद किया। विश्वविद्यालय की प्रबंधक संचालक कांता शर्मा, अध्यक्ष वरुण शर्मा, कुलाधिपति संतोष शर्मा ने इसकी सरहना की और कहा की रिसर्च को बढ़ाने के लिए ऐसे कार्यकर्मों का समय-समय पर होना जरूरी है। कार्यक्रम का संचालन श्वेता कुमार और आराधना सौरोट ने किया। कार्यक्रम में चारू शर्मा और एन० ए० ए० सी० की पूरी टीम राहुल मोंगिया, रितिका जग्गी, आराधना सौरोट, मीनू भाटी, राहुल धनकर आदि का सहयोग सराहनीय रहा।


स्मृति ज़ुबिन ईरानी ने क्यूएस आई-गेज शैक्षिक उत्कृष्टता कॉन्क्लेव में एमआरयू और एमआरआईआईआरएस को ‘इंस्टीट्यूट ऑफ हैप्पीनेस’ पुरस्कार से सम्मानित किया

Posted by: | Posted on: 7 days ago

फरीदाबाद ( विनोद वैष्णव ) : मानव रचना यूनिवर्सिटी और मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज़ को इंडिया हैबिटेट सेंटर,नई दिल्ली में आयोजित क्यूएस आई-गेज (QS I-Gauge) शैक्षिक उत्कृष्टता कॉन्क्लेव में शैक्षणिक वातावरण में खुशी को बढ़ावा देने के लिए ‘इंस्टीट्यूशंस ऑफ हैप्पीनेस’ पुरस्कार मिला है। इस सर्वेक्षण में देश भर से कुल 100 संस्थानों ने भाग लिया और केवल 33 संस्थान ‘इंस्टीट्यूशंस ऑफ हैप्पीनेस’ पुरस्कार प्राप्त करने के लिए योग्य पाए गए । यूके स्थित QS, Quacquarelli Symonds के इंडियन सब्सिडियरी, QS I-GAUGE ने एक कठोर मूल्यांकन अभ्यास के बाद भारत के सबसे खुशहाल शैक्षणिक संस्थानों की घोषणा की, जो पिछले साल दिसंबर में इंडस्ट्री बॉडी ASSOCHAM के सहयोग से शुरू हुआ था।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ज़ुबिन ईरानी ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए पुरुस्कार वितरण किया। उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए, उन्होंने कहा, “यह महत्वपूर्ण है कि शिक्षक छात्रों की खुशी के स्तर, उनकी भलाई, जीवन की गुणवत्ता, स्थिरता में जुड़ाव और सामाजिक परिवर्तन परियोजनाओं में अंतर्दृष्टि प्राप्त करें, जो संस्थानों को बेहतर परिणामों के लिए आगे बढ़ने में सक्षम बनाएगा।”

इस आयोजन में, मानव रचना यूनिवर्सिटी ने क्यूएस आई-गेज समग्र डायमंड रेटिंग के लिए प्रमाण पत्र भी प्राप्त किया, जो शिक्षण और सीखने, संकाय गुणवत्ता, रोज़गार योग्यता, सामाजिक ज़िम्मेदारी, अनुसंधान, उद्यमिता, नवाचार, खेल, कला और संस्कृति के अंतर्राष्ट्रीयकरण से लेकर विभिन्न श्रेणियों में फैले 100 से अधिक संकेतकों में कठोर मूल्यांकन के बाद एक संस्थान को दिया जाता है। एमआरयू को टीचिंग एंड लर्निंग, फैकल्टी क्वालिटी, फैसिलिटीज और सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी के लिए क्यूएस आई-गेज डायमंड रेटिंग एवं रोज़गार योग्यता और शैक्षणिक विकास के लिए क्यूएस आई-गेज प्लेटिनम रेटिंग से सम्मानित किया गया है। कर्नल गिरीश कुमार शर्मा – एक्सिक्यूटिव डायरेक्टर, इंटरनेशनल अफेयर्स ने MRIIRS की ओर से पुरस्कार स्वीकार किया। MRIIRS शिक्षण, रोज़गार, शैक्षणिक विकास, सुविधाओं, सामाजिक उत्तरदायित्व और समावेशिता के लिए QS-5 स्टार रेटेड संस्थान है।

MRU की तरफ से  प्रोफेसर (डॉ.) आई.के. भट – कुलपति, एमआरयू; प्रोफेसर (डॉ.) धर्मेंद्र एस. सेंगर – प्रो-वाइस चांसलर, एमआरयू और डॉ संगीता बांगा – डीन एकेडमिक्स, एमआरयू पुरस्कार प्राप्त करने के लिए उपस्थित थे। QS I-GAUGE के सीईओ और निदेशक डॉ अश्विन फर्नांडीस ने कहा, “शिक्षा प्रदान करने में गुणवत्ता और उत्कृष्टता का बहुत महत्व है, क्योंकि वे शिक्षार्थियों की क्षमताओं को बढ़ाते हैं जो अविकसित और विकसित देशों के बीच अंतर को कम करेंगे। यह प्रत्येक हितधारक की भागीदारी के बिना संभव नहीं है। QS I-GAUGE इस कारण से भारतीय संस्थानों को वैश्विक विशेषज्ञता प्रदान करने में सक्रिय रूप से शामिल है।”

मानव रचना शैक्षणिक संस्थान जिसमें मानव रचना यूनिवर्सिटी (एमआरयू), मानव रचना डेंटल कॉलेज (एमआरडीसी), मानव रचना इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ रिसर्च एंड स्टडीज़ (एमआरआईआईआरएस) और मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल शामिल हैं, निरंतर उत्कृष्टता की ओर बढ़ रहे हैं एवं विकास और खुशी को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। 


टीना बेंटिक ने माइनॉरिटी कमीशन में उठाई इसाई कब्रिस्तान की चारदीवारी की मांग

Posted by: | Posted on: 7 days ago

फरीदाबाद(विनोद वैष्णव )। भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य टीना बेंटिक नेशनल माइनॉरिटी कमीशन के चेयरमैन इकबाल सिंह लालपुरा एवं सदस्य रिंचन ल्हामो से दिल्ली स्थित उनके कार्यालय पर मिली और उनसे माइनॉरिटी यानि अल्पसंख्यक समुदायक के लोगों के उत्थान, शिक्षा, चिकित्सा सहित विकास के लिए चलाई जा रही योजनाओं पर चर्चा की। इस मौके पर उन्होंने फरीदाबाद के गांव पाली में क्रिश्चियन समुंदाय के लिए बने हुए कब्रिस्तान की बाउंड्री वॉल कराने की भी मांग की। मुलाकात के दौरान उन्होंने नेशनल माइनॉरिटी चेयरमैन व सदस्य से कहा कि फरीदाबाद में बड़ी तादाद में इसाई समुदाय के लोग रहते हैं, जिनके लिए पाली गांव में एक कब्रिस्तान 16 जनवरी, 2013 को अलॉट किया गया था। परंतु इसकी बाउंड्री वॉल का काम अभी तक पूरा नहीं हुआ है और न ही यहां पर पानी का इंतजाम है। इसाई समुदाय के लोग यहां पर अल्पसंख्यक हैं, इसलिए उनको सुविधाएं मुहैया कराना हमारा अधिकार है और हम चाहते हैं कि गांव पाली में जो कब्रिस्तान इसाई समुदाय के लोगों के लिए बनाया गया है। उसका पूरी तरह से सौंदर्यकरण किया जाए, चारदीवारी की जाए एवं यहां पर पानी का प्रबंध किया जाए। इससे एक तरफ इसाई समुदाय के लोग सुरक्षित महसूस करेंगे, वहीं अन्य सुमदाय के लोग उनके शमशान घाट में अतिक्रमण नहीं कर पाएंगे। नेशनल माइनॉरिटी कमीशन के चेयरमैन इकबाल सिंह लालपुरा व सदस्य रिंचन ल्हामो ने उनको आश्वासन दिया और कहा कि उनके प्रस्ताव पर शीघ्र-अतिशीघ्र कार्यवाही की जाएगी, ताकि फरीदाबाद में क्रिश्चियन समुदाय के लोगों की एक बेहतरीन कब्रिस्तान की मांग पूरी हो सके।


लिंग्याज ने राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया

Posted by: | Posted on: 1 week ago

फरीदाबाद। 11 मई। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी एनसीआर की जानी मानी तकनीकी शिक्षण संस्था लिंग्याज विद्यापीठ (डीम्ड-टु-बी) यूनिवर्सिटी द्वारा आज 11 मई को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस पर एक सेमिनार आयोजित किया गया। जिसे वैज्ञानिकों की उपलब्धियों को यादों के रूप में मनाया जाता है। स्कूल ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन एंड डिपार्टमेंट ऑफ कंप्यूटर साइंस एंड टेक्नोलॉजी द्वारा इस सेमिनार को आयोजित किया गया। इस आयोजन में खासतौर पर प्रो. (डॉ.) मनसफ आलम कंप्यूटर विज्ञान विभाग, प्राकृतिक विज्ञान संकाय, जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे। मंच का संचालन एचओडी कोऑडिनेटर डॉ. श्रृतु सचदेवा ने किया।   

इस दौरान टेक्निकल क्विज कंपटीशन भी आयोजित किया गया। जिसमें छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर भाग लिया। इस कंपटीशन में 8 टीमें बनाई गई। जिसमें टीम 2 विजेता रही। वही उपविजेता टीम 1 रही। जिन्हें डॉ. आलम द्वारा पुरस्कृत किया गय़ा। इतना ही नहीं सेमिनार में उपस्थित सभी को डॉ. मनसफ आलम द्वारा “ BIG DATA, IOT AND AI APPLICATIONS IN REAL LIFE” पर लेक्चर सुनने का मौका मिला। बता दें कि डॉ. आलम ‘जर्नल ऑफ एप्लाइड इंफोर्मेशन साइंस’ के प्रधान संपादक है। उन्होंने IEEE, Springer, Elsevier Science और ACM द्वारा प्रकाशित प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में रिसर्च आर्टीकल्स प्रकाशित किए है। उनके शोध के क्षेत्र में बिग डेटा एनालिटिक्स, मशीन लर्निंग एंड डीप लर्निंग, क्लाउड कंप्यूटिंग, क्लाउड डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (CDBMS), ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड डेटाबेस सिस्टम (OODBMS), जेनेटिक प्रोग्रामिंग, बायोइनफॉरमैटिक्स, इमेज प्रोसेसिंग, इंफॉर्मेशन रिट्रीवल और डेटा माइनिंग शामिल हैं। वह विभिन्न पत्रिकाओं के समीक्षक के रूप में कार्यरत हैं। इस अवसर पर लिंगयाज ग्रुप के चेयरमैन डॉ. पिचेश्वर गड्डे व वाइस चांसलर प्रो. (डॉ) जी.जी. शास्त्री मौजूद रहे। डॉ. पिचेश्वर ने कहा कि तकनीकी संस्थान होने के कारण आज का दिन लिंग्याज के लिए विशेष महत्व रखता है जो हमारे आने वाली पीढ़ियों को सदैव बताता रहेगा कि हम विज्ञान के क्षेत्र में कितने प्रगतिशील हैं। वही वाइस चांसलर डॉ. शास्त्री ने कहा कि साइंस और टेक्नोलॉजी  के क्षेत्र में लिंग्याज नई-नई उपलब्धियां हासिल कर रहा है। उन्होंने सेमिनार के आयोजकों की तारीफ करते हुए आशा व्यक्त की कि इस तरह के कार्यक्रम के आयोजन से छात्र-छात्राओं को नई जानकारियां मिलती हैं। अंत में विभाग की एसोसियेट प्रोंफेसर डॉ. तापसी नागपाल ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

उल्लेखनीय है कि 11 मई 1998 को भारत द्वारा सफल परमाणु परीक्षण किए जाने की खुशी में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाया जाता है। इस दिन राजस्थान के पोखरण में कुल 5 परीक्षण हुए थे। इसी दिन आयोजित परीक्षण में 5.3 रिक्टर पैमाने पर भूकंपीय कंपन दर्ज करते हुए तीन परमाणु बम विस्फोट किए गए, तभी से भारत में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस मनाने की शुरुआत हुई।


जम्मू-कश्मीर की वादियों में लिंग्याज विद्यापीठ ने लॉच की चार करोड़ की छात्रवृत्ति योजना

Posted by: | Posted on: 1 week ago

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव) : लिंग्याज विद्यापीठ के लिए बहुत ही गर्व का क्षण है, क्योंकि L-SET (22-23) के कश्मीर चैप्टर, कोरोना योद्धाओं, पूर्व सैनिकों के बच्चों और मेधावी छात्रों के लिए चार करोड़ की छात्रवृत्ति योजना शुरू की गई। जिसके तहत छात्रों को लिंग्याज छात्रवृत्ति प्रवेश परीक्षा (L-SET) के लिए उपस्थित होना होगा। इस स्कॉलरशिप में ट्यूशन फीस पर 100 फीसदी तक की छूट दी जाएगी। बहुत मामूली भुगतान पर, एक छात्र ऑनलाइन परीक्षा का प्रयास करने के लिए दो अवसरों का लाभ उठा सकता है।

लिंग्याज विद्यापीठ की ओर से कश्मीर में आयोजित इस भव्य आयोजन में शेख जुल्फकार आजाद एसएसपी सुरक्षा (कश्मीर) ने बतौर मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की और कहा कि छात्रों को अलग-अलग जगहों पर पढ़ना और सीखना चाहिए। इससे छात्रों को कई तरह की भाषाओं का भी ज्ञान प्राप्त हो सकेगा। वही डॉ. हिलाल, पुलिस उपाधीक्षक ने भी इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में अपनी उपस्थिती दर्ज कराई। इस अवसर पर अतिथियों ने लिंग्याज विद्यापीठ के प्रयासों की सराहना की और कहा कि यह योग्य छात्रों के लिए एक वरदान साबित होगा। लिंगयस ग्रुप के चेयरमैन डॉ. पिचेश्वर गड्डे ने अपने मुख्य भाषण में हरियाणा और दिल्ली-एनसीआर के साथ-साथ जम्मू-कश्मीर के कोरोना योद्धाओं, पूर्व सैनिकों के बच्चों व मेधावी छात्रों को 4 करोड़ रुपये की छात्रवृत्ति का बहुमूल्य उपहार दिया। विद्यापीठ की प्रो वाइस चांसलर प्रो. (डॉ.) जसकिरन कौर ने वहां उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहां कि इस स्कॉलरशिप को शुरू करने का उद्देश्य योग्य छात्रों की प्रतिभा की पहचान करना और उन्हें पेशेवर और तकनीकी पाठ्यक्रमों को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करना है। विश्वविद्यालय का प्रयास है कि मेधावी छात्रों को अपनी आगे की पढ़ाई पूरी करने का मौका मिले। यह वास्तव में उनके लिए एक बड़ा पुरस्कार है, क्योंकि इस छात्रवृत्ति योजना से कई छात्र अब अपने सपनों को पूरा कर सकते हैं।

उपस्थित लोगों को छात्रवृत्ति के लिए अंकों की गणना पर आगे स्पष्टीकरण प्रदान किया गया। प्लेसमेंट और कॉरपोरेट रिलेशंस के उप निदेशक विक्रांत अग्रवाल ने कहा कि विद्यापीठ के कई छात्रों को उद्योग में बहुत उच्च और सम्मानजनक पदों पर रखा गया है और इस प्रकार लिंगयाज विरासत को गर्व से आगे बढ़ा रहें है। इस दौरान आयोजित प्रेस वार्ता में डॉ. गड्डे, प्रो. (डॉ.) जसकिरन कौर और विक्रांत अग्रवाल ने उनके प्रश्नों के उत्तर भी दिए। लिंग्याज विद्यापीठ के कश्मीरी पूर्व छात्रों ने परिसर में अपने अपने जीवन की सुखद यादों पर चर्चा की। डॉ. गड्डे ने कार्यक्रम में उपस्थित प्रेस के माननीय सदस्यों का अभिनंदन किया। विक्रांत ने इस अवसर की शोभा बढ़ाने के लिए अपने व्यस्त कार्यक्रम से अपना कीमती समय निकालने के लिए विशिष्ट अतिथियों और अन्य गणमान्य व्यक्तियों को धन्यवाद दिया।


राजेश भाटिया ( जिला अध्यक्ष फरीदाबाद ) जननायक जनता पार्टी

Posted by: | Posted on: 1 week ago

राजेश भाटिया ( जिला अध्यक्ष फरीदाबाद ) जननायक जनता पार्टी


“तरुण निकेतन विद्यालय के प्रांगण में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया ‘महाराणा प्रताप जयंती समारोह’

Posted by: | Posted on: 1 week ago

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव ) | प्रतिवर्ष 9 मई को महाराणा प्रताप की जयंती मनाई जाती है। इस दिन सन् 1540 में महाराणा प्रताप का जन्म हुआ था। इसी उपलक्ष में तरुण निकेतन विद्यालय में अनेक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। कोविड-19 के सुरक्षा नियमों का पालन करते हुए विद्यालय में कमल सिंह तंवर जी (अध्यक्ष राजपूत सभा जिला फरीदाबाद) ने महाराणा प्रताप की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलित करके उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी। इस कार्यक्रम में एडवोकेट जे.पी. भाटी , कार्यालाय सचिव इंदरजीत , राजपूत सभा जिला फरीदाबाद के युवा प्रभारी तुलसी चौहान , उप-प्रधानाचार्या राधा चौहान तथा सभी अध्यापक गण भी शामिल हुए। सभी ने मिलकर महाराणा प्रताप को पुष्पांजलि अर्पित की। कमल सिंह तंवर ने इस अवसर पर अपने सुविचार प्रस्तुत किए तथा मेवाड़ के सपूत, वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की जयंती पर उन्हें शत्-शत् नमन किया। उन्होंने विद्यार्थियों को महाराणा प्रताप के स्वर्णिम इतिहास के बारे में बताया। वरिष्ठ अध्यापक सवितुरदेव जी ने बच्चों को महाराणा प्रताप के जीवन के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान कीं।
इस अवसर पर बच्चों ने मधुर वाणी में कविता पाठ किया। बच्चों द्वारा की गई प्रस्तुति ने सबका मन मोह लिया। उप-प्रधानाचार्या राधा चौहान ने भी बच्चों के समक्ष इस दिन के विषय में अपने विचार प्रस्तुत किए। कार्यक्रम के अंत में सभी ने एक साथ राष्ट्रीय गान सस्वर लय में गाया तथा जय हिंद के नारे के साथ कार्यक्रम का समापन किया गया।


सतयुग दर्शन संगीत कला केन्द्र ,फरीदाबाद ने मनाया मदर्स डे

Posted by: | Posted on: 2 weeks ago

फरीदाबाद : सतयुग दर्शन संगीत कला केन्द्र की ओर से मदर्स डे के उपलक्ष्य में एक रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया  I कार्यक्रम में बच्चों व अभिभावकों को आमंत्रित किया गया और सभी मदर्स ने अपने अपने बच्चों के साथ नृत्य व गायन की प्रस्तुति देकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई I सभी अभिभावक अपने बच्चों में आये इस बदलाव को देखकर मंत्रमुग्ध हो रहे थे I उन्होंने सतयुग दर्शन संगीत कला केन्द्र तथा इसमें कार्यरत वालंटियर्स की सराहना की I  कार्यक्रम के अंत में कला केन्द्र की सेंटर इंचार्ज सोनिया नागपाल ने  कत्थक नृत्य की शिक्षिका कुमारी नेहा वर्मा और गायन व वादन के शिक्षक विक्की सहारिया का धन्यवाद किया और मदर्स को फूल व बच्चों को गिफ्ट्स देकर उनका उत्साह वर्धन किया I कार्यक्रम में कंचन चोपड़ा , नेहा वढेरा , रेनू जुनेजा भी उपस्थित रहे I


फरीदाबाद के सारन में श्री हरी भोग रसोई की स्थापना अवसर पर बतौर मुख्यातिथि पहुंचे पूर्व उद्योग मंत्री विपुल गोयल

Posted by: | Posted on: 2 weeks ago

 फरीदाबाद के सारन एरिया में स्थित नवग्रह मंदिर, प्याली चौक के पास कुo योगराज गौर उर्फ़ राजू द्वारा श्री हरिभोग रसोई की स्थापना की । जिसमे पूर्व उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने बतौर मुख्य अतिथि कार्यक्रम मे शिरकत की और् श्री हरिभोग रसोई की शुरुआत करते हुए संस्था के चैयरमेन योगराज गौर को इस नेक् कार्य की शुरुआत करने पर बधाई दी।

पूर्व मंत्री विपुल गोयल ने इस् अवसर पर कहा की जो व्यक्ति दुसरो की सेवा करता है इससे बड़ा परोपकार ओर पुण्य दूसरा कोई नही हो सकता। पूर्व मंत्री ने बताया की संस्था द्वारा मात्र 10 रुपये मे भरपेट खाना दिये जाने से उन गरीब परिवारों को भोजन उपलब्ध हो पायेगा जो कभी कभी पैसे की आर्थिक तंगी के कारण भूखे पेट भी सो जाते है।

इस अवसर पर पूर्व मंत्री ने बताया की उन्होंने भी महाराजा अग्रसेन रसोई फरीदाबाद के बादशाह खान अस्पताल मे शुरुआत की थी ओर् वहाँ पर भी केवल 5 ओर 10 रुपए मे भरपेट खाना दिया जाता था लेकिन कोरोना काल के बाद अब इसे जल्द ही दोबारा शुरु किया जायेगा। विपुल गोयल ने बताया की श्री हरिभोग रसोई मे भी खाना मशीनों द्वारा ही बनाया जायेगा ओर साफ सफाई का विशेष ध्यान भी रखा जायेगा।

 संस्था के प्रधान योगराज गौर ने पूर्व मंत्री विपुल गोयल का सम्मान किया ओर बताया की उन्होंने इस रसोई की प्रेरणा पूर्व मंत्री द्वारा शुरु की गयी रसोई से ही ली ओर तभी से प्रण किया था की वह भी इसी प्रकार लोगो की सेवा करेंगे । योगराज गोर ने कहा की उन्होंने 10 रुपय की कीमत इसलिए रखी है ताकि कोई खाना व्यर्थ ना करे ओर अगर किसी के पास मजबूरी मे कभी पैसे नही भी हो तो निशुल्क भी खाना खा सकते है।

इस अवसर पर योगराज गौर प्रधान, डी डी गोयल, बनवारी गर्ग, नीरज जैन, मुकेश आहूजा, ज्ञानेंद्र भारद्वाज, डॉ अमित, राजू अरोड़ा, प्रदीप कुमार व अन्य काफी संख्या में लोग उपस्थित रहे।