शिक्षा

now browsing by category

 
Posted by: | Posted on: 4 months ago

वृंदा इंटरनेशनल स्कूल के बारहवीं कक्षा के पहले बैच के विद्यार्थियों ने बारहवीं सी.बी.एस.ई बोर्ड परीक्षा 2021 में उत्कृष्ट परिणाम प्राप्त करके अपने विद्यालय का नाम रौशन किया है

फरीदाबाद(विनोद वैष्णव )| वृंदा इंटरनेशनल स्कूल के बारहवीं कक्षा के पहले बैच के विद्यार्थियों ने बारहवीं सी.बी.एस.ई बोर्ड परीक्षा 2021 में उत्कृष्ट परिणाम प्राप्त करके अपने विद्यालय का नाम रौशन किया है। हमारे प्रतिभाशाली विद्यार्थियों ने महान क्षितिज को छुआ है और स्कूल को गौरवान्वित किया है। प्राची ठाकुर ने स्कूल में टॉप किया और मानविकी में 95.6 अंकों के साथ पहला स्थान हासिल किया। प्रिया मंगला (मेडिकल) और अर्शी खान (कॉमर्स) ने 95.2% हासिल कर दूसरा स्थान हासिल किया। इलका सैफी (मेडिकल) और सोनाली सिंह (कॉमर्स) ने 94.8% अंक हासिल कर तीसरा स्थान हासिल किया। अन्य उत्कृष्ट उपलब्धि हासिल करने वालों में नॉन मेडिकल की गार्गी चौहान ने 94.6% निधि नेगी (कॉमर्स) ने 93.4% साक्षी (कॉमर्स) ने 92.8%, एंजेला वेस्ले (कॉमर्स) ने 92.6%, सागर भाटिया (कॉमर्स) ने 91% अंक हासिल किए। हिमांशु (कॉमर्स) ने 77.4% अंक हासिल किए। 27 छात्रों में से 3 छात्रों ने 95% से अधिक अंक प्राप्त किए, 7 छात्रों ने 90% से अधिक अंक प्राप्त किए। इसके अलावा 5 छात्रों ने 70% से अधिक अंकों के साथ परीक्षा उत्तीर्ण की। इसी के साथ
12 छात्रों ने 60% से अधिक अंकों के साथ परीक्षा उत्तीर्ण की। स्कूल की प्रबंध निर्देशिका विजयलक्ष्मी ने प्रधानाचार्य डॉ.कौमुदी भारद्वाज, उप प्रधानाचार्य जोबा गुहा, मेधावी छात्र, उनके गुरु और अभिभावकों को हार्दिक बधाई दी।

Posted by: | Posted on: 4 months ago

विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल में मना ओलिंपिक हॉकी पदक की जीत का जश्न

फरीदाबाद(विनोद वैष्णव )| बीते रोज जर्मनी को मिले पेनल्टी कॉर्नर को ज्यों ही गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने रोका, भारतीय खिलाड़ियों के साथ टीवी पर इस ऐतिहासिक मुकाबले को देख रहे करोड़ों भारतीयों की भी आंखें नम हो गईं। आखिर इंतजार 41 साल का था और अतीत की मायूसियों के साये से निकलकर भारतीय हॉकी टीम ने पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए तोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीत लिया। विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल, तिगांव में इस जीत का जश्न जोश के साथ मनाया गया. सभी मिठाइयां बांटी गईं.
इस अवसर पर स्कूल के डायरेक्टर दीपक यादव ने कहा कि भारतीय टीम 1980 मॉस्को ओलिंपिक में अपने आठ गोल्ड मेडल में से आखिरी पदक जीतने के 41 साल बाद ओलिंपिक पदक जीती है। मॉस्को से तोक्यो तक के सफर में बीजिंग ओलिंपिक 2008 के लिए क्वॉलिफाइ नहीं कर पाने और हर ओलंपिक से खाली हाथ लौटने की कई मायूसियां शामिल रहीं। लेकिन इस बार आठ बार की ओलिंपिक चैंपियन और दुनिया की तीसरे नंबर की भारतीय टीम ने इतिहास रच दिया जोकि हमारे लिए काफी ख़ुशी और गर्व का विषय है.
उन्होंने कहा कि हॉकी हमारा राष्ट्रीय खेल है इसलिए यह जीत और भी मायने रखती है. इस जीत से युवा खिलाडियों का मनोबल बढ़ेगा और क्रिकेट की तरह ही हॉकी में और बेहतरीन युवा खिलाडी आएंगे. गौरतलब है कि भारत ने हॉकी में ओलंपिक इतिहास में सबसे अधिक 12 मेडल जीतने का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बना लिया है. जर्मनी की टीम 11 मेडल के साथ दूसरे नंबर पर है. अन्य कोई टीम दहाई मेडल तक नहीं पहुंच सकी है. भारत ने 1928, 1932, 1936, 1948, 1952, 1956, 1964 और 1980 में गोल्ड मेडल जीता. 1960 में सिल्वर जबकि 1968, 1972 और 2021 में ब्रॉन्ज मेडल पर कब्जा किया.

Posted by: | Posted on: 4 months ago

शानदार रहा विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल का दसवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव ) | विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल, तिगांव का दसवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम हर वर्ष की भांति ही शानदार रहा। स्कूल के छात्रों में से ज्योति, साहिल और यांशी ने 96 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किये. इसके अलावा स्नेहा गर्ग, दिव्यांशी, जिया बहोत, प्रियांशु व साक्षी वर्मा ने 90 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किये. इसके साथ ही ध्रुव त्यागी, ओमदत्त, भारती, मुस्कान, दिनेश, मुस्कान, जय अधाना, रजत, तनिश, मोहित, देवशी, गीतिका, रूद्र, वर्षा, साहिल, तमन्ना, स्नेहा, आयुषी, निशांत, मानक्षी, हर्ष और यश ने 80 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किये. इस अवसर पर स्कूल डायरेक्टर दीपक यादव ने बताया कि सीबीएसई दसवीं की परीक्षा में स्कूल के सभी छात्र अच्छे अंकों से सफल हुए हैं। उन्होंने उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए उनको बधाई दी है और इसका श्रेय स्कूल के अध्यापकों, स्टाफ व छात्रों की मेहनत को दिया. साथ ही उन्होंने सभी अभिभावकों को भी धन्यवाद् किया जिन्होंने कोरोना की वजह से पढ़ाई प्रभावित होने के बाबजूद छात्रों को अनुसाशन के साथ प्रेरित किया. इस अवसर पर स्कूल के चेयरमैन धर्मपाल यादव ने छात्रों आशीर्वाद दिया और उन्हें आगे के लिए और अधिक मेहनत करने के लिए प्रोत्साहित किया. स्कूल के डायरेक्टर शम्मी यादव, प्रधानाचार्य कुलविंदर कौर, वाईस प्रिंसिपल योगेश चौहान ने भी सभी को मिठाई खिलाकर शुभकामनायें दीं. गौरतलब है कि तिगांव स्थित विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल स्वच्छ वातावरण के साथ आधुनिक सुविधाओं और अनुभवी स्टाफ वाला उत्कृष्ट स्कूल है जिसका हर साल का रिजल्ट शानदार ही रहता है. स्कूल शिक्षा के साथ साथ खेलों के लिए भी जाना जाता है क्यूंकि स्कूल वर्ल्ड क्लास फैसिलिटीज के क्रिकेट, आर्चरी और ताए कवांडो की अकादमी भी चलता है. स्कूल के द्वारा लड़कियों की शिक्षा के लिए उल्लेखनीय प्रयास किये गए हैं जिनमें फ्री एडमिशन और 10 लाख से अधिक की छात्रवृति जैसी सुविधायें भी शामिल हैं.

Posted by: | Posted on: 4 months ago

सतयुग दर्शन विद्यालय के छात्रों ने इस वर्ष भी गत वर्षों की भाँति परम्परागत परिपाटी को बनाए रखते हुए अच्छे अंक अर्जित करके शानदार कीर्तिमान स्थापित किए और विद्यालय को गौरवान्वित किया है

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव ) | उत्तर भारत में रेजिडेंशियल स्कूलों की सर्वोत्तम श्रेणी में अग्रणी माने जाने वाले फरीदाबाद शहर के प्रदूषण रहित वातावरण में स्थित सतयुग दर्शन विद्यालय के छात्रों ने इस वर्ष भी गत वर्षों की भाँति परम्परागत परिपाटी को बनाए रखते हुए अच्छे अंक अर्जित करके शानदार कीर्तिमान स्थापित किए और विद्यालय को गौरवान्वित किया है।

सतयुग दर्शन विद्यालय का वार्षिक परीक्षा परिणाम इस प्रकार रहा-
कुल छात्रों की संख्या-69

परीक्षा में प्रवेश करने वाले छात्रों की संख्या- 69

परीक्षा में उत्तीर्ण होने वाले छात्रों की संख्या- 69

अनुत्तीर्ण——-00

पोजिशन होल्डर्स:-
1-ईश मनराय-96.8%
2-तरुण चौहान-95.8%
3-वालिनी प्रणामी-93.6%
4-वंदन गुप्ता-91.2%
5-साक्षी व अभिषेक झा-90%

90 अंक से ऊपर अंक अर्जित करने वाले छात्रों की संख्या-4

80-90 के बीच अंक लेने वाले छात्र-15

70-80 के बीच अंक लेने वाले छात्रों की संख्या-19

60-70 के बीच अंक लेने वाले छात्रों की संख्या-19

50-60 के बीच अंक लेने वाले छात्रों की संख्या-12

50 से नीचे अंक लेने वाला कोई नहीं।

यह तो सर्वविदित है कि गतवर्ष कोविड-19 के कहर के कारण यत्र-तत्र-सर्वत्र त्राहिमाम की स्थिति बनी हुई थी। लेकिन भय और आतंक के इस माहौल में भी सतयुग दर्शन विद्यालय की प्रबंधन समिति विशेष कर चेयरमैन श्री मोहित नारंग जी व प्रिंसिपल श्री नीरज मोहन पुरी जी के कुशल एवं अनुभवी नेतृत्व ने प्रभावशाली योजनबद्ध तरीके से छात्रों, अध्यापकों व अभिभावकों को वर्ष भर निरंतर एक सूत्र में पिरोकर रखा, सभी से बराबर सम्पर्क सूत्र बनाए रखा, व ऑनलाइन क्लासेज़ के माध्यम से टीचिंग-लर्निंग प्रोसेस को निर्बाध गति से चलायमान रखा।
जिसकी परिणति आज शानदार एवं गौरवशाली परीक्षा परिणाम में देखने को मिल रही है।

इस शानदार परीक्षा परिणाम के आने पर चेयरमैन श्री मोहित नारंग जी ने छात्रों, अभिभावकों व टीम SDV को शुभकामनाएं दी।

प्रिंसिपल श्री नीरज मोहन पुरी जी ने भी परिश्रमी छात्रों, अभिभावकों व कर्मठ अध्यापकों को परीक्षा परिणाम की इस शानदार उपलब्धि पर बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए छात्रों को इसी प्रकार से परिश्रमी बने रहने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने अपनी वचनबद्धता को दोहराते हुए कहा कि वे भविष्य में भी इसी प्रकार के कीर्तिमान स्थापित करते रहने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

Posted by: | Posted on: 4 months ago

कक्षा दसवीं के परिणाम में आयशर स्कूल सैक्टर-46 फरीदाबाद शत-प्रततशत परिणाम देकर चमका

आयशर विद्यालय केविद्यार्थियों नेयह सावबत कर वदया वक यवद इरादेमजबूत हो और मेहनत ईमानदारी से
की जाए तो सफलता हमेशा साथ देती है। सत्र 2020- 21 का परीक्षा पररणाम शत-प्रततशत रहा। परीक्षा देने
िालेविद्यार्थियों की कुल सं ख्या 121 थी, जजसमें29 विद्यार्थियों ने90% सेअतधक अं क प्राप्त वकए तथा 26
विद्यार्थियों ने85%- 90% अं क प्राप्त वकए।
सेजल ठाकुर न98.20 % े लेकर विद्यालय मेंप्रथम स्थान प्राप्त वकया तथा वनमेश ततमोथी ने97% लेकर
वितीय स्थान प्राप्त वकया एि ररद्तधआनं द ने96.80% लेकर तीसरा स्थान प्राप्त वकया।

ववषय टॉपससइस प्रकार रहे:-

सं स्कृत – शैलजा वत्रिेदी – 100%
गणणत (स्टेडडि) – सेजल ठाकुर – 99%
हहं दी- सेजल ठाकुर – 99%
कं प्यूटर एप्लीकेशनस – ररद्तध आनं द एिं सेजल ठाकुर – 99%
अं ग्रेजी – अरुणणमा ससं ह – 98%
सामाजजक विज्ञान – ररद्तधआनं द, सेजल ठाकुर एिं आयुष ससं ह – 98%
विज्ञान- सेजल ठाकुर – 98%
पेंहटं ग – माधि रत्रा – 97%
फ्रेंच – आयुश ससं ह – 97%
एणलमेंट्स ऑफ वबजनेस – माधि रत्रा – 95%
हहं दुस्तानी सं गीत – व्योम गुप्ता – 93%
गणणत (बेजसक) – माधि रत्रा – 81%

विद्यालय की प्राचाया अर्पिता चक्रिती ने सभी बच्चों, अतभभािकों एिं जशक्षकों को बधाई दी ि बच्चों
केउज्जिल भविष्य की कामना की

Posted by: | Posted on: 8 months ago

लिंग्याज में मनाया गया विश्व जल दिवस

लिंग्याज डीम्ड-टू-बी- यूनिवर्सिटी में विश्व जल दिवस मनाया गया। जिसका मुख्य उद्दश्य विश्वभर में पीने के पानी की आपूर्तिव उसका महत्व को समझाने का था।सभी को पानी की जरूरत को समझाने के उद्देश्य से ही यूनिवर्सिटीमें विश्व जल दिवस मनाया गया। जिसमें बच्चों ने पूरे उत्साह के साथ भाग लिया और पानी के महत्व को लेकर अपने विचार व्यक्त कियें।डिपार्टमेंट ऑफ इंगलिश के द्वारा इस दिवस को आयोजित किया गया। जिसका संचालन डॉ. रशमी ने किया।

इस अवसर पर यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ. ए.आर.दुबे, डीन ऑफ एकेडमिक डॉ. पंकज मिश्रा समेत कई और फैकल्टीज ने भी अपनी मौजूदगी दर्ज कराई। वहीं कुलपति डॉ. ए.आर.दुबे ने पानी को लेकर अपने विचार वयक्त किए कि हमारे जीवन में जल का क्या महत्व है। पानी के बिना हमारा जीवन किस तरह अधूरा है। इन सभी बातों पर चर्चा की। उसी तरह से डॉ. पंकज ने भी सभी के समक्ष अपने विचार रखे। वहीं डिपार्टमेंट ऑफ इंगलिश की एकेडमिक डीनप्रोफेसर आंचल मिश्रा ने कहां किमैं अपने डिपार्टमेंट की सभी फैकल्टीज का धन्यवाद करती हूं कि उन्होंने इस इवेंट को करने में अपना पूरा सहयोग दिया। उन्होंने कहां कि इस इवेंट को करने का मकसद यहीं था कि हम सब पानी की महत्वता को समझे और उस पर अमल भी करें।

कब से मनाया जा रहा है यह दिवस

1993 में पहली बार विश्व जल दिवस मनाया गया था और संयुक्त राष्ट्र संघ ने 1992 में अपने ‘एजेंडा 21’में रियो डी जेनेरियो में इसका प्रस्ताव दिया था। संयुक्त राष्ट्र के अनुसारलगभग 4 बिलियन लोग वर्ष में कम से कम एक महीने के लिए पानी की भारी कमी का अनुभव करते हैं और लगभग 1.6 बिलियन लोग – दुनिया की आबादी का लगभग एक चौथाई – एक स्वच्छ, सुरक्षित जल आपूर्ति तक पहुँचने में समस्याएं हैं।

Posted by: | Posted on: 8 months ago

विदेशों में भी अपनी छाप छोड़ रही है लिंग्याज यूनिवर्सिटी

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव ) | लिंग्याज डीम्ड-टू-बी- यूनिवर्सिटी की अपनी एक अलग पहचान है। यूनिवर्सिटी अपनी इसी पहचान में कई और कड़ियों को जोड़ रही है। भारत के अन्य प्रांतों के साथ-साथ अब विदेशों से भी यूनिवर्सिटी में छात्र पढ़ने आ रहे है। किसी भी छात्र के जीवन में हायर सेकेंडरी पास करने के बाद सबसे महत्वपूर्ण निर्णय होता है कि उसे किस कॉलेज में एडमिशन लेना चाहिए। अक्सर लुभावने विज्ञापन, सुनी-सुनाई बातों और दूसरों की देखा-देखी बच्चे और अभिभावक गलत कॉलेज का चुनाव कर लेते हैं जो स्टूडेंट के करियर के लिए बुरा साबित होता है। लेकिन लिंग्याज यूनिवर्सिटी अपनी टीम को विदेश भेजकर वहां काउंसलिंग करवाती है। ताकि यूनिवर्सिटी के हर पहलू को विदेशी छात्र समझ और परख सके कि उनके भविष्य के लिए क्या सही हैं और क्या गलत। इंटरनेळनल एडमिशन एंड रिलेशन के हैड इरशाद अरमानी ने बताया कि दिल्ली एनसीआर में जितनी भी यूनिवर्सिटीज है उनमें अभी तक यूएसए से कोई भी छात्र पढ़ने के लिए नहीं आया है। लिंग्याज ऐसी पहली यूनिवर्सिटी है जहां यूएसए से भी छात्र पढ़ने के लिए आ रहे है। उन्होंने बताया कि मैं खुद विदेशों में जाकर काउंसलिंग करता हूं। ताकि बच्चों को मैं उनके भविष्य के लिए गाइड कर सकु। यूनिवर्सिटी में यूएसए के अलावा अफगानिस्तान, नाईजीरिया, जिम्बाब्वे और कांगो से भी छात्र काफी मात्रा में एडमिशन ले रहा हैं। इरशाद अरमानी ने बताया कि इसी साल बेल्जियम की यूनिवर्सिटी थॉमस मोर यूनिवर्सिटी के साथ हमने टाइअप किया है। जिसके जरिए यहां के छात्र एक साल के लिए निशुल्क बेल्जियम में पढ़ सकेंगें और अगर कोई वहां का छात्र एक साल के लिए भारत में पढ़ना चाहे तो वो भी लिंग्याज में निशुल्क पढ़ सकेगा। इतना ही नहीं छात्रों के साथ-साथ अगर कोई टीचर यहां से
विदेश जाकर पढ़ाना चाहे या फिर वहां से कोई टीचर हमारी यूनिवर्सिटी में पढ़ाना चाहे तो वो भी यहां पढ़ा सकते है। इसके साथ बेल्जियम यूनिवर्सिटी से हमने रिसर्च कॉलेब्रेशन भी किया है। दक्षिण अफ्रीका, नेपाल, नाईजीरिया, अफगानिस्तान से अगले सैशन में कम से कम 100 छात्रों को लाने का हमारा टारगेट है। हमारी कोशिश है कि यूनिवर्सिटी को ग्लोबल के साथ जोड़ सके। हमारा बाहर की बहुत सी यूनिवर्सिटी के साथ एमओयू (समझौता ज्ञापन) करने का भी प्लान है। लिंग्याज ग्रुप के चेयरमैन डा. पिचेश्वर गड्डे का कहना है कि ज्यादातर ऐसा होता है कि भारत के छात्र ही विदेश भागने में लगे रहते है, लेकिन हमारी ये कोशिश है कि अब विदेश से ज्यादा से ज्यादा छात्र भारत में आकर पढ़े। ग्लोबलाइजेशन का ट्रेंड बढ़ रहा है। छात्रों को क्या पढ़ना है। किस देश में पढ़ना है। इस बारे में सोचना चाहिए। इसलिए हमारी यही कोशिश है कि भारत के साथ-साथ विदेशों से भी ज्यादा से ज्यादा छात्र यहां आकर अपनी पढाई करे।

Posted by: | Posted on: 9 months ago

हरियाणा के पूर्व मंत्री विपुल गोयल के घर राम मंदिर के लिए संकल्प समर्पण निधि का कार्यक्रम आयोजित

विनोद वैष्णव | फरीदाबाद सेक्टर 17 स्थित अपने आवास पर पूर्व मंत्री विपुल गोयल द्वारा संकल्प समर्पण निधि अभियान के तहत प्रभु श्री राम मंदिर के लिए विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष आलोक कुमार जी की अध्यक्षता में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

जैसाकि आप सभी को ज्ञात है कि रामलल्ला कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का काम शुरू हो गया है, इसके लिए देशभर से संकल्प समर्पण निधि के तहत सहयोग राशि जुटाई जा रही है । अयोध्या के साथ साथ पुरे देशभर् मे इस ख़ुशी को मनाने के लिए शोभा यात्रा निकाली जा रही है ।

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण की तैयारियां जोर शोर से चल रहीं हैं और देश के अलग अलग हिस्सों से लोग बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे है। विहिप के कार्यकर्ताओ और राम भक्तो की ओर से मंदिर निर्माण के लिए संकल्प समर्पण निधि कार्यक्रम के जरिये समाज को जागृत करने के लिए खुशी के साथ इस मुहीम को पुरा करने मे सहयोग कर रहे हैं ।

विपुल गोयल द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम मे अलोक कुमार राष्ट्रीय अध्यक्ष विश्व हिन्दु परिषद ने बतौर मुख्यातिथि के रूप मे शिरकत की। इससे पहले गोयल और मौजूद लोगों द्वारा राष्ट्रीय अध्यक्ष का बुक्के और फूल मालाओ से जोरदार स्वागत किया और भगवान राम के जयकारो के नारो से कार्यक्रम राममयी हो गया। उपरोक्त कार्यक्रम में शिरकत करने वाले सभी लोगों द्वारा दिल खोलकर संकल्प समर्पण निधि अभियान के तहत हिस्सा लिया और प्रभु श्री राम मंदिर के निर्माण के लिए भरपूर सहयोग दिया ।

इस अवसर पर राष्ट्रीय अध्यक्ष विहिप द्वारा अपने सम्बोधन मे कहा कि यह बहुत ही गर्व का विषय है हमारी इस पीढ़ी के लिए जो प्रभु श्री राम मंदिर के निर्माण में सहयोग कर रही है क्योंकि वर्षों बाद ऐसा मौका आया है कि हमारी इस पीढ़ी के लिए कि हम प्रभु श्री राम मंदिर में अपनी भागीदारी अदा कर सकें। एक वह समय था जब प्रभु श्रीराम के लिए संपूर्ण वानर सेना ने प्रभु मर्जी से अपना सहयोग समुन्द्र पर पुल बाँधने मे दिया था और आज इस पीढ़ी के लिए यह मौका प्रभु इच्छा से ही प्राप्त हुआ है कि हम सभी लोग इस भव्य मंदिर के निर्माण हिस्सा बन सकेंगे और हमें इस अदभुत योगदान का अवसर मिला है ।

इस मौके पर विपुल गोयल ने कार्यक्रम मे शामिल् हुए सभी सहयोगकर्ताओं का साधुवाद धन्यवाद और आभार प्रकट किया जिन्होंने अपने-अपने स्वैच्छिक कोष से संकल्प समर्पण निधि के तहत मंदिर निर्माण के कार्य में सहयोग किया।

इस मौके पर अनेक उद्यमियों, सामाजिक संस्थाओं के साथ-साथ पूर्व मंडल अध्यक्ष प्रवीण चौधरी, नरेश नंबरदार पार्षद, सुरजीत अधाना जिला पार्षद, कुलदीप सिंघल, जितेंद्र गर्ग, कपिल पाराशर, सुरेश भोला के साथ साथ अन्य काफी लोग मौजूद थे।

Posted by: | Posted on: 10 months ago

मानव रचना डेंटल कॉलेज ने बीडीएस के छात्रों का किया स्वागत

फरीदाबाद (दीपक शर्मा /देवेंदर सिंह/ ) | मानव रचना डेंटल कॉलेज में बीडीएस 2021-25 सत्र के छात्रों का स्वागत किया गया। फ्रेशर्स बैच 3-दिन के कार्यक्रम और एक सफेद कोट समारोह के साथ अपनी यात्रा शुरू करेंगे । इस दौरान मुख्य अतिथि के तौर पर पदम श्री (डॉ.) महेश वर्मा, वीसी, गुरू गोविंद सिंह इंद्रप्रस्त यूनिवर्सिटी शामिल हुए। मानव रचना शिक्षण संस्थान के उपाध्यक्ष अमित भल्ला, डॉ. संजय श्रीवास्तव, (एमडी, MREI) और (वीसी MRIIRS), सरकार तलवार, निर्देशक, खेल, MREI, मानव रचना डेंटल कॉलेज के प्रिंसिपल, डॉ. अरुणदीप सिंह, डॉ. आशिम अग्रवाल(वाइस प्रिंसिपल) और अन्य संयोजक शामिल थे। इस अवसर पर MRDC के वरिष्ठ सदस्य, छात्र और उनके माता-पिता भी उपस्थित थे।मुख्यअतिथि डॉ. महेश वर्मा ने अपने स्कूल से कॉलेज तक के सफर को साक्षा करके छात्रों को संबोधित किया। उन्होनें मानव रचना यूनिवर्सिटी के कई स्पेशल अलग-अलग फील्ड की महत्वता को समझाते हुए पढ़ाई के साथ-साथ अलग डिसिप्लिन के महत्व को भी सांझा किया।MREI के उपाध्यक्ष अमित भल्ला ने छात्रों को शिक्षण संस्थान की आने वाली योजना इनॉवेशन प्रोडक्ट स्कील केंद्र को समझाते हुए डेंटल छात्रों को पढ़ाई के दौरान कुछ नया करने को प्रेरित किया। साथ ही उन्होने छात्रों को शुभकानाएं देते हुए समझाया कि स्कूल से प्रोफेशनल जिंदगी को कैसे नए तरीके से हेंडल कर सकते हैं।मानव रचना डेंटल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. अरुणदीप सिंह ने सभी छात्रों का कॉलेज में स्वागत किया और उम्मीद जताई की आने वाले पांच साल छात्रों के लिए उनके करियर के लिए बेहतरीन साबित होंगे। उन्होनें मानव रचना शिक्षण संस्थान के बारे में और बीडीएस और अन्य प्रोग्राम के बार में छात्रों को रूबरू करवाया। मानव रचना यूनिवर्सिटी के एमडी डॉ. संजय श्रीवास्तव ने भी छात्रों को शुभकामनाएं दीं ।

Posted by: | Posted on: 10 months ago

ध्यान-कक्ष यानि समभाव-समदृष्टि के स्कूल की भव्य शोभा

फरीदाबाद (दीपक शर्मा /देवेंदर सिंह ) | भौतिक शिक्षा के साथ-साथ आध्यात्मिक शिक्षा प्राप्त करने के इच्छुक गवर्मेण्ट मीडिल स्कूल, बादशाहपुर के छात्र-छात्राएँ आज अपने प्रधानाचार्य आजाद सिंह व अन्य सहयोगी अध्यापकों यथा मंजू गुप्ता, जावेद , राजकुमार व सुंदर सिंह सहित फऱीदाबाद, ग्राम भूपानी स्थित, प्रमुख दर्शनीय स्थल, ध्यान-कक्ष यानि समभाव-समदृष्टि के स्कूल की भव्य शोभा देखने वसुन्धरा परिसर पहुँचे। वसुन्धरा परिसर के द्वार से कतारों में आती विद्यार्थियों की यह पंक्तियाँ देखते ही बनती थी।उपस्थित बच्चों को इस कैमपस के मु2य आकर्षण केन्द्र भव्य ध्यान-कक्ष की शोभा व निर्मित बनावट की महत्ता से परिचित कराते हुए साथ-साथ यह भी बताया गया कि यह एकता का प्रतीक ध्यान-कक्ष सतयुग की पहचान है व मानवता का स्वाभिमान है। अत: एकता में बने रहने हेतु हमारे लिए इंसानियत को अपनाना व उसी अनुसार व्यवहार करना आवश्यक है। ऐसा सुनिश्चित करना ही मानव धर्म पर डटे रहने की बात है। उन्हें कहा गया कि जो इंसान अपने इस निज धर्म पर निर्विकारता से मजबूत बना रह पाता है उसी का ही नैतिक स्तर महान होता है और वह सदाचार का प्रतीक इंसान ही इस जगत के उद्धार हेतु कुछ कर पाता है। आगे बच्चों को यह भी बताया गया कि निज धर्म पर सुदृढ़ बने रहने पर ही मन शांत रह सकता है और मन की शांति ही एक इंसान को धीरता से जीवन पथ पर उन्नति करने की योग्यता प्रदान करती है। तभी तो वह प्राणी अपने व सबके प्रति जीवन कत्र्तव्य सर्वहित को ध्यान में रखते हुए कुशलता व सहजता से निभा पाता है। आगे कहा गया कि सब बच्चे ऐसे ही बने इस हेतु आओ सब मिलकर ईश्वर से ऐसी शांति व शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना करें जिससे हमारे अन्दर आत्मिक बल का वर्धन हो और हम पराक्रमी एक अच्छे व नेक इंसान की तरह जीवन जीने के योग्य बन सके। इसके पश्चात् सबने हाथ जोड़ कर यह प्रार्थना की