स्वास्थ

now browsing by category

 
Posted by: | Posted on: 10 months ago

मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद ने मरीजों को अपने अनुभव साझा करने एवं जागरूकता बढ़ाने के लिए आमंत्रित कर मनाया ‘सफल लिवर प्रत्यारोपण का जश्न’

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव ) | मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स फरीदाबाद ने सर्जरी से पहले और बाद में अपने अनुभवों को साझा करने के लिए मरीजों को आमंत्रित करके लिवर प्रत्यारोपण की सफलता का जश्न मनाया। इस मौके पर मरीजों को एक ऐसा मंच मिला जहां उन्होंने अपने जीवन के अनुभवों को साझा किया कि वे लीवर ट्रांसप्लांट टीम के साथ कैसे जुड़े, सर्जरी के बाद उनकी जीवन शैली क्या है, और समाज को उनका इतना कहना है कि स्वास्थ्य कितना महत्वपूर्ण है और स्वास्थ्य चुनौतियों से मुक्त जीवन कितना बेहतरीन है। मरीजों के साथ टीम का नेतृत्व मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स में लिवर ट्रांसप्लांट विभाग के डायरेक्टर एवं एचओडी डॉ. पुनीत सिंगला ने किया। उनके साथ डॉ ऋषभ जैन, डायरेक्टर, एनेस्थेटिस्ट और आईसीयू केयर, और सर्जरी, एनेस्थीसिया और आईसीयू में टीम के अन्य सदस्य शामिल हुए।

लिवर व्यक्ति के शरीर में सबसे बड़े अंगों में से एक है और भोजन का पाचन, रोग प्रतिरोधक क्षमता और मेटाबॉलिज्म (भोजन को पचाकर ऊर्जा में बदलने की प्रक्रिया) को ठीक बनाए रखने, रक्त को शुद्ध बनाने और विषाक्त पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने, विटामिन और खनिजों को जमा करने और शरीर में पोषक तत्वों को इकट्ठा करने जैसे कुछ सबसे महत्वपूर्ण कार्य करता है। लिवर के ये सभी फंक्शन विभिन्न कार्यों और गतिविधियों को करने के लिए शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। लिवर खराब होने की आखिरी स्टेज में मरीज को लिवर ट्रांसप्लांट की जरूरत होती है। ट्रांसप्लांट की नौबत जीवनशैली से जुडी कुछ स्वास्थ्य समस्याओं (मोटापा, हाई, डायबिटीज), संक्रमण की चपेट में आने और लिवर की बीमारी के कारण भी आ सकती है।

पंजाब से क्रॉनिक लिवर फेलियर, किडनी फेलियर, कोविड, मल्टीपल बीपी सपोर्ट मेडिसिन और पेट की दीवार से खून बहने की समस्या के साथ 40 वर्षीय सतविंदर सिंह (बदला हुआ नाम) मरीज डॉ. पुनीत के पास लाया गया था। ऐसे मरीजों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना (शिफ्ट करना) अपने आप में एक कठिन और जोखिम भरा काम है; उन्हें लगभग 400 किलोमीटर से सफलतापूर्वक स्थानांतरित कर दिया गया। मरीज को आईसीयू में कई विशिष्ट टीमों द्वारा सामान्य किया गया था। मरीज की पत्नी ने अपने उसे अपना लिवर डोनेट किया जो मरीज में सफलतापूर्वक ट्रांसप्लांट किया गया। वर्तमान में, मरीज पूरी तरह से ठीक हो गया है और फिर से सामान्य जीवन जी रहा है, अपने व्यवसाय में सक्रिय रूप से काम कर रहा है। डोनर भी सामान्य जीवन जी रही है। यह मामला कई बीमारियों के एक साथ होने के कारण काफी चुनौतीपूर्ण था, सर्जन की टीम को एक बहुत ही बीमार मरीज की एक उच्च जोखिम वाली सर्जरी करनी थी। जिस गंभीर स्थिति में मरीज को हॉस्पिटल में लाया गया था, इलाज न मिलने पर 1-2 दिनों में उस स्थिति में मरीज की जान जा सकती थी।

उज्बेकिस्तान से क्रोनिक लिवर डिजीज लिवर कैंसर के साथ आये एक मरीज का इलाज करने के दौरान डॉक्टरों की टीम कई चुनौतियां का सामना करना पड़ा। अहमद, (बदला हुआ नाम) मरीज और उसकी पत्नी कोविड-संबंधी लॉकडाउन के कारण भारत में फंस गए थे। एक शाम को अपनी पत्नी के साथ टहलते समय, रोगी को अचानक भारी दिल का दौरा पड़ा; उसे पुनर्जीवित करने के लिए 45 मिनट का कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन (सीपीआर) दिया गया। आपातकालीन आधार पर मरीज की कोरोनरी एंजियोग्राफी और स्टेंटिंग की गई। डिस्चार्ज होने के बाद मरीज की लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी की गई। नवीनतम सीटी स्कैन ने पुष्टि की कि अब मरीज को कोई कैंसर नहीं है।

डॉ पुनीत सिंगला, डायरेक्टर एवं एचओडी-लिवर ट्रांसप्लांट, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स ने कहा कि जब एक सर्जन अपने द्वारा अंग प्रत्यारोपण के माध्यम से इलाज किए गए मरीजों को बेहतर स्वास्थ्य स्थिति में देखता है तो उसके लिए इससे बढ़कर कुछ और नहीं हो सकता है। लिवर शरीर का एकमात्र ऐसा अंग है जिसमें फिर से आकार में बढ़ने की अदभुत क्षमता है। दूसरे शब्दों में, लिवर फिर से बढ़ जाता है। फिर से आकार में बढ़ने की अदभुत क्षमता के कारण ही आंशिक लिवर प्रत्यारोपण संभव है। एक बार लिवर के एक हिस्से या लोब को प्रत्यारोपित कर दिया जाता है, तो यह मरीज और डोनर दोनों में फिर से बढ़ जाएगा। ऐसे कई कारण हैं जिनकी वजह से मरीजों को लिवर ट्रांसप्लांट की जरूरत पड़ती है। इस कार्यक्रम के माध्यम से हमारा प्रयास सर्जिकल प्रक्रिया के बारे में किसी भी तरह की आशंकाओं या भय को दूर करना है। हम अपने मरीजों को बातचीत करने और इस बारे में जागरूकता फैलाने के लिए लाए हैं कि कैसे सर्जरी किसी भी व्यक्ति को लाभ पहुंचा सकती है जिसे बेहतर जीवन और बेहतर भविष्य के लिए इस सर्जरी की आवश्यकता है।

मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स के मैनेजिंग डायरेक्टर एवं ग्रुप सीईओ डॉ. राजीव सिंघल ने कहा कि लिवर प्रत्यारोपण का फील्ड (क्षेत्र) वर्षों से विकसित हो रहा है। भविष्य में रिसर्च कार्य को और आगे बढ़ाने के लिए और अधिक लोगों की जिंदगी बचाने के लिए, हमें अंग दान से जुड़े भय और आशंकाओं को दूर करने के लिए अधिक जागरूकता फ़ैलाने की आवश्यकता है। वर्तमान में, हम अच्छा क्लीनिकल (चिकित्सकीय) कार्य कर रहे हैं क्योंकि हमारे डॉक्टर के लिए मरीज ही सब कुछ हैं। हमारे डॉक्टर हर चुनौती या बाधा का सामना करने के लिए नई रणनीतियों और तकनीकों के साथ पूरी तैयार हैं। मरीजों की जान बचाना महत्वपूर्ण है। वे मरीजों के लाभ के लिए नए विकल्पों को आजमाने को तैयार हैं। यह चीज है जो स्वास्थ्य सेवा में नया बदलाव लाती है।

डॉ. अजय डोगरा, रीजनल डायरेक्टर-एनसीआर, मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स ने कहा कि मैरिंगो एशिया हॉस्पिटल्स की लिवर ट्रांसप्लांट टीम लिवर ट्रांसप्लांट में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (आकर्षण का केंद्र) का निर्माण करती है। डॉक्टर एंड-स्टेज लिवर फेलियर के मरीजों में बदलाव लाने के लिए पूरी तरह से समर्पित हो जाते हैं। लिवर की विभिन्न गंभीर बिमारियों और बेहद चुनौतीपूर्ण स्वास्थ्य समस्याओं के साथ आये सभी मरीजों का लिवर ट्रांसप्लांट सर्जनों की टीम द्वारा सफल इलाज किया गया। टीम ने चिकित्सकीय एक्सीलेंस के आधार पर सफल सर्जरी के साथ मरीजों का इलाज किया और वे सभी मरीज आज स्वस्थ जीवन जी रहे हैं।

वर्तमान में, भारत में सालाना 1800 से अधिक लिवर प्रत्यारोपण (एलटी) किए जाते हैं। जहाँ भारत में 80 प्रतिशत से अधिक लिवर प्रत्यारोपण लिविंग डोनर (जीवित दाताओं) से होते हैं, वहीं पश्चिमी चिकित्सकों द्वारा लगभग 90% लिवर प्रत्यारोपण मृत दाताओं के लिवर से होते हैं। तकनीकी रूप से, जीवित डोनर के लिवर के साथ लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी मृत डोनर के लिवर को ट्रांसप्लांट करने की तुलना में अधिक चुनौतीपूर्ण है। हालांकि, जो चीज समय पर सर्जरी की लगभग 95% सफलता दर के साथ सर्जरी को सफल बनाती है, वह चिकित्सकीय एक्सीलेंस, प्रतीक्षा समय को कम करना, अंग दान के बारे में जागरूकता और प्रत्यारोपण के बाद स्वस्थ जीवन जीना है।

Posted by: | Posted on: 10 months ago

फरीदाबाद के अमृता अस्पताल के एक प्रमुख डॉक्टर ने जानकारी देते हुए कहा कि थैलेसीमिया के मामले में सरकार और समाज का लक्ष्य इलाज के बजाय रोकथाम पर होना चाहिए, क्योंकि इस ब्लड डिसॉर्डर का इलाज बहुत महंगा और कष्टदाई है

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव )| फरीदाबाद के अमृता अस्पताल के एक प्रमुख डॉक्टर ने जानकारी देते हुए कहा कि थैलेसीमिया के मामले में सरकार और समाज का लक्ष्य इलाज के बजाय रोकथाम पर होना चाहिए, क्योंकि इस ब्लड डिसॉर्डर का इलाज बहुत महंगा और कष्टदाई है।

अमृता अस्पताल के हेमेटोलॉजी और बीएमटी विभाग के प्रमुख डॉ. (प्रो.) प्रवास मिश्रा ने कहा, “आज समाज के सामने थैलेसीमिया की चुनौती का एकमात्र समाधान थैलेसीमिया बच्चे के जन्म से बचना है। जब कोई महिला गर्भवती होती है तो उसे इस रोग की जांच करानी चाहिए। यदि वह कैरियर पाई जाती है तो पति का भी परीक्षण किया जाना चाहिए। यदि दोनों पॉजिटिव पाए जाते हैं, तो अजन्मे भ्रूण का परीक्षण आवश्यक है। यदि भ्रूण प्रभावित पाया जाता है, तो माता-पिता गर्भपात के विकल्प पर विचार कर सकते हैं और थैलेसीमिक बच्चे के जन्म को टाल सकते हैं। चूँकि थैलेसीमिया एक आनुवंशिक रूप से फैलने वाली बीमारी है, बच्चा या तो थैलेसीमिक या कैरियर होगा। एक कैरियर बच्चा बीमारी से पीड़ित नहीं होता है।”

थैलेसीमिया एक आनुवंशिक ब्लड डिसऑर्डर है, जो माता-पिता दोनों से बच्चों में फैलता है, जिसके परिणामस्वरूप हीमोग्लोबिन कम हो जाता है, और शरीर की लाल रक्त कोशिकाएं, जो शरीर की सभी कोशिकाओं तक ऑक्सीजन ले जाती हैं, ठीक से काम नहीं कर पाती हैं। इससे एनीमिया हो जाता है, जिससे रोगी को थकान या सांस लेने में तकलीफ महसूस होती है। गंभीर एनीमिया शरीर के अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके अलावा, बार-बार रक्त चढ़ाने से आयरन की मात्रा बढ़ जाती है, जिसे यदि ढंग से मैनेज नहीं किया जाता है, तो यह अंगों को नुकसान पहुंचा सकता है।

डॉ. (प्रो.) प्रवास मिश्रा ने कहा, “थैलेसीमिया के बोझ को कम करना महत्वपूर्ण है। थैलेसीमिया का एकमात्र स्थायी इलाज स्टेम-सेल ट्रांसप्लांट है, जो बहुत महंगा है, जिसकी कीमत 12-15 लाख रुपये है। यह भी तब संभव है, जब रोगी के परिवार में कोई मैचिंग डोनर मिल जाए, जो केवल 25-30% मामलों में होता है। बाकी मरीजों को असंबंधित डोनर को खोजने के लिए इंतजार करना पड़ता है। स्टेम सेल ट्रांसप्लांट करने का सबसे अच्छा समय रोगी के किशोरावस्था में प्रवेश करने से पहले का है। बाद के वर्षों में, शरीर में आयरन की अधिकता के कारण शरीर इलाज के प्रति कम रिस्पॉन्स देता है और ट्रांसप्लांट के दुष्प्रभाव भी ज्यादा होते हैं।

थैलेसीमिया के मरीजों को बार-बार रक्त चढ़ाने की जरूरत पड़ती है और कभी-कभी तो महीने में कई बार ब्लड ट्रांसफ्यूज़न करना पड़ जाता है। डॉक्टर के मुताबिक, अच्छी गुणवत्ता और जितनी बार आवश्यक हो, उतनी बार रक्त मिलना एक बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा, “कई थैलेसीमिया सोसायटी आज मौजूद हैं, जो रोगियों को स्थानीय ब्लड बैंकों और सरकारी मेडिकल कॉलेजों से जोड़कर उनकी मदद करने की कोशिश करती हैं, जहां उनका मुफ्त रक्त ट्रांसफ्यूज़न हो जाता है, लेकिन अभी भी अधिकांश रोगियों तक इसकी पहुँच नहीं है। थैलेसीमिया और सिकल सेल एनीमिया अब राष्ट्रीय कार्यक्रम का हिस्सा हैं, इसलिए इस बीमारी से निपटने के लिए सरकार में काफी जागरूकता है।”

डॉ. (प्रो.) प्रवास मिश्रा के अनुसार, थैलेसीमिया आनुवंशिक रूप से अगली पीढ़ी में कैसे फैलता है, इस बारे में समाज में जागरूकता की कमी के कारण, आज भी माताओं को बच्चे का इस बीमारी से पीड़ित होने के लिए दोष मिलता है। उन्होंने आगे कहा, “भारत में महिलाओं को बच्चों से संबंधित किसी भी चीज़ के लिए सबसे अधिक दोष दिया जाता है, चाहे वह बेटे को जन्म देने में असमर्थता हो, या किसी स्वास्थ्य समस्या या मानसिक विकार से पीड़ित बच्चे हों। थैलेसीमिया के लिए भी यही सच है। कई महिलाएं स्वस्थ बच्चे को जन्म न देने के लिए खुद को जिम्मेदार भी ठहराती रहती हैं। लोगों को यह एहसास नहीं है कि थैलेसीमिया के साथ पैदा होने वाले बच्चे के लिए, माता-पिता दोनों को स्वयं थैलेसीमिया रोगी या थैलेसीमिया जीन के वाहक होने की आवश्यकता होती है। बच्चे को बीमारी के लिए एक नहीं बल्कि माता-पिता दोनों से दोषपूर्ण जीन होना जरूरी होता है। इसलिए, बच्चों में थैलेसीमिया के लिए मां को दोष देना, खासकर छोटे शहरों और कस्बों में अज्ञानता और सामाजिक पूर्वाग्रहों का परिणाम है।”

भारत में थैलेसीमिया वाले बच्चों की संख्या दुनिया में सबसे अधिक 1 से लेकर 1.5 लाख तक है। देश में हर साल थैलेसीमिया वाले लगभग 10 से 15 हजार बच्चे पैदा होते हैं।

Posted by: | Posted on: 10 months ago

पंडित एलआर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस कबूलपुर बांगर बल्लभगढ़ के प्रांगण में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव ) | पंडित एलआर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस कबूलपुर बांगर बल्लभगढ़ के प्रांगण में रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया यह रक्तदान शिविर लायंस क्लब ऑफ डिवाइन व डिवाइन चैरिटेबल ब्लड सेंटर के द्वारा आयोजित किया गया
रक्तदान शिविर का शुभारंभ भाजपा फरीदाबाद जिला अध्यक्ष पंडित गोपाल शर्मा व चेयरमैन पंडित एल आर ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस एवं जिला उपाध्यक्ष भाजपा फरीदाबाद पंडित लखमीचंद भारद्वाज ने दीप प्रज्वलित कर किया रक्तदान शिविर के मुख्य व्यवस्थापक संस्थान के निदेशक प्रोफेसर आरपी आर्य, एकेडमिक डीन भरत राज बुंदेल, एसोसिएट प्रोफेसर गवर्नमेंट कॉलेज डॉ सुनील शर्मा, पंडित एलआर कॉलेज ऑफ फार्मेसी के प्रिंसिपल डॉ रवि मल्होत्रा थे
पंडित एलआर ग्रुप ऑफ़ इंस्टीटूशंस के चेयरमैन पंडित लखमीचंद भारद्वाज ने जानकारी देते हुए बताया कि इस रक्तदान शिविर में युवाओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया खासकर महिलाओं में ज्यादा उत्साह देखने को मिला इस रक्तदान शिविर में महिला व पुरुष ने 70 यूनिट रक्तदान दान किया जिसमें 15 महिला व 55 पुरुषों ने रक्तदान किया
और उन्होंने कहा कि जनकल्याण के लिए रक्तदान शिविर का आयोजन समय-समय पर होता रहना चाहिए रक्तदान एक श्रेष्ठ कार्य है हमारे द्वारा किए हुए रक्तदान से ना जाने कितने लोगों की जान बचाई जाती है इसलिए अपनी शारीरिक जांच करा कर कम से कम 6 महीने में एक बार रक्तदान जरूर करना चाहिए

Posted by: | Posted on: January 2, 2023

फरीदाबाद स्थित अमृता अस्पताल और आईएपी ने जन्मजात हृदय रोग पर सीएमई का आयोजन किया

फरीदाबाद(vinod vaishnav) देश के सबसे बड़े मल्टी स्पेशियलिटी निजी अस्पताल, फरीदाबाद स्थित अमृता हॉस्पिटल ने फरीदाबाद चैप्टर की इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स (आईएपी) के सहयोग से जन्मजात हृदय रोग (सीएचडी) पर एक सीएमई का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में फरीदाबाद, बल्लभगढ़ और पलवल के 25 से अधिक बाल रोग विशेषज्ञों ने  भाग लिया।

अमृता अस्पताल के प्रमुख विशेषज्ञों ने दर्शकों को संबोधित किया, जिसमें बाल चिकित्सा कार्डियोलॉजी और वयस्क जन्मजात हृदय रोग के हेड डॉ. एस राधाकृष्णन और बाल चिकित्सा और जन्मजात हृदय सर्जरी के हेड डॉ. आशीष कटेवा शामिल थे। फरीदाबाद चैप्टर की इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के अध्यक्ष डॉ. अनिल नागे और सचिव डॉ. धनसुख कुमावत भी मंच पर मौजूद थे।

अमृता अस्पताल के बाल चिकित्सा कार्डियोलॉजी और वयस्क जन्मजात हृदय रोग विभाग के हेड डॉ. एस राधाकृष्णन सीएचडी के लक्षणों के बारे में बात की और साथ ही सर्जिकल हस्तक्षेप की आवश्यकता कब होती है इस बारे में भी बताया। उन्होंने कहा, “पश्चिमी देशों में 95% की तुलना में, भारत में अभी भी जन्मजात हृदय रोग वाले 2% से कम बच्चों का गर्भ में निदान किया जाता है। जन्म के बाद निदान होने पर भी बच्चे बेहद क्रिटिकल स्टेज में हॉस्पिटल पहुंचते हैं, उस वक़्त उनकी जान बचाना किसी चुनौती से कम नहीं होता है। फीटल ईसीएचओ और ईसीएचओ कार्डियोग्राफी जैसी तकनीकों से अब हम सीएचडी का आसानी से निदान कर पाते हैं। बाल रोग विशेषज्ञों को सीएचडी के चेतावनी संकेतों के बारे में शिक्षित करने और इसे जल्दी पहचानने के तरीके की तत्काल आवश्यकता है। इस सीएमई का आयोजन उसी दिशा में एक कदम है।”

अमृता अस्पताल के बाल चिकित्सा और जन्मजात हृदय सर्जरी के हेड डॉ. आशीष कटेवा ने अपने बच्चे में सीएचडी का पता चलने पर माता-पिता द्वारा अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के बारे में बात की। उन्होंने कहा, “जब माता-पिता को उनके बच्चे में सीएचडी का पता चलता है, तो उनके दिमाग में कई सवाल आते हैं। ये  सवाल बीमारी से संबंधित होते हैं, उनके बच्चे को यह क्यों हुआ, क्या वे इसे रोकने के लिए कुछ कर सकते थे, क्या सीएचडी उनके दुसरे बच्चों को भी हो सकता है, क्या होगा अगर बच्चे की सर्जरी नहीं होती है, सर्जरी के जोखिम, सीएचडी के साथ उनके बच्चे की जिंदगी कैसी होगी आदि। बाल रोग विशेषज्ञ के लिए उनकी चिंताओं को  सहानुभूति के साथ दूर करना बहुत आवश्यक है।

डॉ कटेवा ने आगे कहा, भारत में सबसे ज्यादा सीएचडी मामले सामने आते हैं, जहां हर साल 200,000 बच्चे इस बीमारी से पीड़ित पैदा होते हैं। हालांकि इनमें से बड़ी संख्या में बच्चों का पता नहीं चल पाता है और इसलिए उनका इलाज नहीं किया जाता है, हम बाल चिकित्सा कार्डियोलॉजी और कार्डियक सर्जरी के क्षेत्र में लगातार प्रगति कर रहे हैं। जन्मजात हृदय दोष के बारे न केवल जनता के बीच बल्कि चिकित्सकों के बीच भी में काफी गलत जानकारी है, जो इस बीमारी के इलाज में एक बड़ी चुनौती है। इस बातचीत का उद्देश्य उन सवालों का जवाब देना था जो माता-पिता और उपचार कर रहे बाल रोग विशेषज्ञ के पास सीएचडी के कारणों और रोकथाम, उपचार के परिणामों और सर्जरी के बाद लॉन्ग-टर्म में रोग के निदान के बारे में हो सकते हैं।

फरीदाबाद चैप्टर की इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स के अध्यक्ष डॉ. अनिल नागे ने कहा कि सीएमई बाल रोग विशेषज्ञों को सीएचडी के बारे में शिक्षित करने के लिए आयोजित किया गया था, विशेष रूप से खतरनाक स्थितियों के लिए जिन्हें तत्काल उपचार की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा, “भारत में, अधिकांश बाल हृदय देखभाल सुविधाएं शहरों में हैं, जो ग्रामीण क्षेत्रों और छोटे शहरों में सीएचडी के उचित निदान और उपचार को मुश्किल बनाती हैं।सीएचडी की बेहतर समझ के लिए बाल रोग विशेषज्ञों के उचित प्रशिक्षण के साथ हमें भारत के सभी हिस्सों में इस तरह की और सुविधाओं की आवश्यकता है।

अमृता अस्पताल के परिसर में एक अत्यधिक विशिष्टताओं के साथ बच्चों का अस्पताल है जो मातृ, प्रजनन और भ्रूण चिकित्सा और बाल चिकित्सा कार्डियोलॉजी, हृदय शल्य चिकित्सा और प्रत्यारोपण, रुमेटोलॉजी, एंडोक्रिनोलॉजी, पल्मोनोलॉजी, न्यूरोसाइंसेस, बाल चिकित्सा आनुवंशिकी, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, बाल चिकित्सा आर्थोपेडिक्स और बाल चिकित्सा और भ्रूण की सर्जरी सहित सभी बाल चिकित्सा उप-विशेषताओं से परिपूर्ण है।

Posted by: | Posted on: December 17, 2022

राजकीय महाविद्यालय, फ़रीदाबाद तथा ऑल इण्डिया मैंनेजमेन्ट एसोसिएशन (AIMA) के बीच समझौता ज्ञापन


राजकीय महाविद्यालय, फ़रीदाबाद तथा ऑल इण्डिया मैंनेजमेन्ट एसोसिएशन, नई दिल्ली (AIMA) के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया | ऑल इण्डिया मैंनेजमेन्ट एसोसिएशन, प्रबन्धन के क्षेत्र में शिक्षा प्रदान करने वाले शीर्ष संस्थानों में से एक है | यह समझौता ज्ञापन राजकीय महाविद्यालय, फ़रीदाबाद में छात्रों को प्रबन्धन के क्षेत्र में विभिन्न पाठ्यक्रमों को करवाने के लिए सक्षम करेगा जैसे पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मैंनेजमेंट (PGDM), पोस्ट ग्रेजुएट सर्टिफ़िकेट इन मैंनेजमेंट (PGCM) तथा ओपन डिस्टैंस लर्निंग के माध्यम से अन्य शॉर्ट टर्म कोर्स | यह समझौता ज्ञापन फ़रीदाबाद, पलवल तथा निकटवर्ती क्षेत्र के छात्र-छात्राओं को इन रोजगार परक पाठ्यक्रमों में नामांकन करने की सुविधा प्रदान करेगा जो वर्तमान उद्योगों की जरूरतों को पूरा करेगा |
समझौता ज्ञापन पर डॉ. महेन्द्र कुमार गुप्ता, प्राचार्य राजकीय महाविद्यालय, फ़रीदाबाद तथा डॉ. राज अग्रवाल, निदेशक सैंटर फ़ॉर मैंनेजमेंट एजुकेशन, नई दिल्ली (CME) ने प्रोफ़ेसर आर.के. सिंह, डिप्टी डायरेक्टर, CME AIMA, किरित दास, असिस्टैंट डायरेक्टर, CME AIMA, डॉ. राजेश कुमार, एसोसिएट प्रोफ़ेसर, भौतिक विज्ञान, राजकीय महाविद्यालय तथा अंकित कौशिक, असिस्टैंट प्रोफ़ेसर, रसायन विज्ञान, राजकीय महाविद्यालय फ़रीदाबाद की उपस्थिती में हस्ताक्षर किए | ऑल इण्डिया मैंनेजमेन्ट एसोसिएशन तथा राजकीय महाविद्यालय फ़रीदाबाद के बीच यह समझौता ज्ञापन एक तरह का पहला समझौता ज्ञापन है | PGDM कोर्स में छात्र छात्राओं का चयन मैंनेजमेंट एप्टीट्युड टैस्ट (MAT) में प्राप्तांकों के आधार पर किया जाएगा तथा कक्षाएं सप्ताहान्त में आयोजित की जाएंगी | महाविद्यालय भविष्य में AIMA का परीक्षा केन्द्र स्थापित करने के लिए भी प्रयासरत है | महाविद्यालय द्वारा ICSI के साथ समझौता ज्ञापन पहले ही हस्ताक्षर किया जा चुका है | ये समझौता ज्ञापन NAAC मान्यता के लिए भी बहुत लाभदायक होंगे | डॉ. वी. त्यागराजन, Executive Director, श्रीमती सलोनी कॉल, अध्यक्ष तथा अन्य FMA सदस्यों के साथ प्रवेश, प्लेसमेंट, विशेषज्ञों के व्याख्यान और औद्योगिक प्रदर्शन के उद्देश्य से फरीदाबाद मैनेजमेंट एसोसिएशन (FMA) के साथ भी सहयोग किया है ।

इस समझौता ज्ञापन को सफ़ल बनाने में महाविद्यालय के कॉमर्स तथा प्रबन्धन संकाय के डॉ. प्रीती कपूर, डॉ. लीना वशिष्ठ, कल्पना, अनुराग तथा डॉ. निधि गुप्ता का विशेष योगदान रहा |

Posted by: | Posted on: February 10, 2021

विधायक सीमा त्रिखा ने किया मेट्रो अस्पताल में लेडीज क्लब का विधिवत उद्घाटन

फरीदाबाद (दीपक शर्मा /विनोद वैष्णव ) |फरीदाबाद के सेक्टर-16ए स्थित मेट्रो अस्पताल में रविवार को बडखल की विधायिका सीमा त्रिखा ने लेडीज क्लब की विधिवत रूप से शुरूआत की। इस अवसर पर मुख्य रूप से अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर एवं डायरेक्टर कार्डियोलॉजी डा. नीरज जैन, चीफ आप्रेटरिंग ऑफिसर एवं मेडिकल सुपरीडेंट डा. मनजिंदर भट्टी के अलावा महिला रोग विशेषज्ञ डा. चंचल गुप्ता एवं विनीता खरब मौजूद रहे। इस दौरान डा. नीरज जैन ने विधायक सीमा त्रिखा का अस्पताल पहुंचने पर फूलों का बुक्के देकर स्वागत किया। इस लेडीज क्लब का उद्देश्य महिलाओं को उनके स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करना एवं उन्हें बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाना है। कार्यक्रम में मुख्य रूप से इस मौके पर विधायक सीमा त्रिखा ने मेट्र्रो अस्पताल द्वारा शुरू किए गए लेडीज क्लब की शुरूआत की जमकर सराहना करते हुए कहा कि यह महिलाओं को सशक्त एवं उन्हें स्वस्थ्य रखने की दिशा में उठाया गया कदम है और उन्हें उम्मीद है कि अस्पताल ने जो प्रयास शुरू किया है, उस प्रयास में वह अवश्य सफल होगा। उन्होंने महिलाओं से अपील की कि वह भी अपने स्वास्थ्य की समय-समय पर जांच करवाकर इस प्रकार के क्लबों की पहल का लाभ उठाएं। वहीं अस्पताल के फाउंडर चेयरमैन, पदम विभूषण, पदमभूषण एवं डा. बी.सी. राय नेशनल अवार्डी डा. पुरूषोत्तम लाल ने बताया कि आज के दौर में जानकारी के अभाव के कारण अधिकतर महिलाएं अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत नहीं रहती और बीमारियों से जूझती रहती है। मेट्रो अस्पताल के लेडीज क्लब की एक कोशिश है, जिसके माध्यम से फरीदाबाद की महिलाओं को न केवल वरिष्ठ डाक्टरों की सलाह मुफ्त मुहैया करवाई जाएगी, बल्कि हृदय रोग, मासिक रोग, खान पान, चमड़ी रोग, हड्डी रोगों से बचाव के प्रति भी महिलाओं को जागरूक किया जाएगा। उन्होंने आशा जताई कि मेट्रो अस्पताल की यह कोशिश कारगर साबित होगी और महिलाएं अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होंगी। कार्यक्रम में डा. नीरज शर्मा ने कहा कि भारत में महिलाओं का साक्षरता प्रतिशत दर केवल 65 है, जबकि 23 प्रतिशत महिलाएं लेबर फोर्स पर है। उन्होंने आंकड़े बताते हुए कहा कि 80 प्रतिशत से ज्यादा महिलाएं स्वास्थ्य सेवाओं के लिए अपने परिवार पर आश्रित रहती है और जिसके चलते वह अक्सर बीमारियों को गंभीरता से नहीं लेती और जब बीमारी विकराल हो जाती है, तब उसका इलाज करवाती है, जिससे कई बार उनकी जान जाने की नौबत तक आ जाती है। उन्होंने कहा कि अस्पताल का लेडीज क्लब इस दिशा में कार्य करके महिलाओं को उनके स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने का प्रयास करेगा। कार्यक्रम में डॉ. मनजिंदर भट्टी ने बताया कि भारत दुनिया की पांचवीं बड़ी इकोनॉमी है जबकि काम काजी महिलाओ का प्रतिशत कम होता जा रहा है। उन्होंने कहा कि भारत में लेबर फोर्स पार्टिसिपेशन रेट ऑफ वूमेन 2019 की रिपोर्ट के अनुसार भारत ने इसका प्रतिशत केवल 23 फीसदी है जबकि पाकिस्तान में महिलाओं का वर्कफॉर्स 24 फीसदी, श्रीलंका 35 फीसदी, अमरीका 59 फीसदी एवं चाइना में इसका प्रतिशत 61 फीसदी है। इन सब आंकड़ों का निष्कर्ष है कि भारत में 70 से 80 प्रतिशत महिलाएं स्वास्थ्य सेवाओं के लिए अपने परिवार पर निर्भर करती है और मेट्रो लेडीज़ क्लब की शुरुवात इसी गैप को ध्यान में रख कर की जा रही है। कार्यक्रम में महिला रोग विशेषज्ञ डा. चंचल गुप्ता व डा. विनीता खरब ने संयुक्त रूप से कहा कि आज की भागदौड़ भरी जिंदगी और गलत खानपान के कारण महिलाओं में कई प्रकार के रोग पनपने लगे है, जिनका समय पर अगर उपचार न किया जाए तो वह गंभीर रूप ले लेते है इसलिए प्रत्येक महिला को अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहते हुए निरंतर अपनी जांच करवानी चाहिए। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद की महिलाएं अब मेट्रो अस्पताल के डाक्टरों की सेवाएं निशुल्क ले सकेंगी।

Posted by: | Posted on: February 10, 2021

पल्ला स्थित तरूण निकेतन पब्लिक स्कूल ने अपना 21वाँ स्थापना दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव ) | पल्ला स्थित तरूण निकेतन पब्लिक स्कूल ने अपना 21वाँ स्थापना दिवस हर्षोल्लास के साथ मनाया । स्कूल की स्थापना 6 फरवरी सन् 2000 में स्व जगराम की प्रेरणा से कमल सिंह तंवर ने की | इस शुभ दिन की शुरुआत हवन से की गई, इस अवसर पर बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों पर रंगारंग प्रस्तुति दी । कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर पहुंचे स्कूल के निर्देशक कमल सिंह तंवर जी के शुभ वचनों द्वारा कार्यक्रम की शुरुआत की गई | चेयरमेन हिमांशु तंवर,प्रधानाचार्या रीना भटाचार्या,तथा साथ ही प्रबंधक समिति के सदस्यों की उपस्तिथि ने कार्यक्रम की शोभा बढ़ा दी । लॉक डाउन पिरीयड के बाद इस तरह के कार्यक्रम ने बच्चों तथा अध्यापकों में नई उमंग जगा दी | उप प्रधानचार्या राधा चौहान जी की सन्देशप्रक कविता ने समा बांध दिया | प्रधानचार्या द्वरा बच्चों को शिक्षा के लिए जागरूक रहने तथा सेफ और फिट रहने का सन्देश दिया |

Posted by: | Posted on: January 12, 2021

अपने पुराने मित्र धर्मपाल यादव से मिलने पहुंचे परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा

बल्लभगढ़(विनोद वैष्णव )। हरियाणा के परिवहन मंत्री पंडित मूलचंद शर्मा अपने पुराने मित्र धर्मपाल यादव, चेयरमैन विद्यासागर इंटरनेशनल स्कूल से मिलने उनके निवास स्थान पर पहुंचे और उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली। यादव पिछले 1 माह से शुगर एवं हाई ब्लडप्रैशर के कारण अस्वस्थ थे। गौरतलब है कि पंडित मूलचंद शर्मा, धर्मपाल यादव के पुराने मित्र हैं और दोनों ने राजनीति में काफी समय साथ बिताया है। श्री यादव के एक वरिष्ठ राजनीतिज्ञ हैं और जनहित के मुद्दों पर काम करते रहे हैं। इस अवसर पर दोनों में जनकल्याण के कई मुद्दों पर भी बातचीत हुई। इस मौके पर श्री यादव के पुत्र दीपक यादव भी मौजूद थे। परिवहन मंत्री पंडित मूलचंद शर्मा ने यादव के जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना की।

Posted by: | Posted on: January 12, 2021

छात्राएँ आगे आएं वोट बनवाने , देने व समाज को प्रोत्साहित करें–एस डी एम जितेन्दर कुमार

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव )। राजकीय महाविद्यालय फरीदाबाद में 12.01.2021 को जिला निर्वाचन आयोग के आदेशानुसार,प्राचार्य एम के गुप्ता के नेतृत्व व स्वीप कन्वीनर ड़ॉ प्रतिभा चौहान के दायित्व मे जिला स्तरीय भाषण व निबंध लेखन प्रतियोगिता आयोजित की गई जिस का विषय” प्रजातंत्र की पहचान-मत,मतदान और मतदाता” था।।इस कार्यक्रम मे जिले के सभी महाविधयालयों -डीएवी,जी सी डब्ल्यू, जी सी जी नचौली ,जीसी जी बल्लबगढ,जी सी मोहना व जी सी तिगावं,अग्रवाल कॉलेज ने बढ़ चढ़ कर भाग लिया और कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एसडीएम जितेन्द्र कुमार रहे जिन्होने लोकतंत्र की महता को बनाये रखने व स्वस्थ लोकतंत्र के लिये छात्राओं को आगे आने के लिये प्रोत्साहित किया।प्राचार्य डॉ एम के गुप्ता ने विद्यार्थियों को देश के विकास में मतदान करने की प्रेणा दी।निर्णायक मंडल मे डॉ नीर,ड़ॉ जोरावर,डॉ सुप्रिया,डॉ अमृता ने परिणाम घोषित करते हुआ कहा की सभी का प्रयास उत्तम था तथा भाषण मे पूजा रावत प्रथम(जी सी फरीदाबाद),अंकुश शर्मा द्वितीय(डीएवी),इतिका तृतीय (जी सी फरीदाबाद)रहे और निबंध लेखन में रिशु झा 1st (जीसीडब्ल्यूफरीदाबाद),सौरभ शाक्य जीसीफरीदाबाद),पारुल 2nd (डीएवी)तन्नू तिगावं से विजेता रहे ।सभी प्रतिभागियों ने अपने अपने तरीके से मतदान के महत्व का प्रतिपादन किया।स्वीप कन्वीनर डॉ प्रतिभा चौहान ने सभी युवाओं को मतदाता के रुप में सजग किया। नेहरु कॉलेज ने नये साल मे सभी महाविध्यालयों के युवाओं को देश के लोकतंत्र जेसे ज्वलंत विषय पर विचार करने के लिये प्लेटफॉर्म दिया व इस सब में सोनु नवचेतना फाऊंडेशन व स्टाफ़ सदस्य अमृता श्री ड़ॉ राजेन्द्र कुमार, ड़ॉ शालिनी शर्मा, ड़ॉ तरुण,निशा,ललित ,हरबंस ,ममता भारद्वाज,निशा(मेथ)दुर्गेश,रजनी,संजीव,ड़ॉ उषा का काफी योगदान रहा।कौन्सिल सदस्य डॉ नरेंद्र,ड़ॉ राजपाल ,डॉ नीर,ड़ॉ रुचिरा खुल्लर,डॉ तरुण,डॉ अरुण कार्यक्रम के सुचारु कार्यान्वन के लिये प्राचार्य एम के गुप्ता व प्रतिभा चौहान के साथ बने रहे। अन्त मे डॉ नरेंद्र कुमार ने कार्यक्रम आयोजकों ,विजेताओं को व सभी विद्यार्थियो को बधाई दी व मुख्य अतिथि एसडीएम जितेंद्र कुमार व प्राचार्य नेहरु कॉलेज एम के गुप्ता ,अन्य महाविध्यालयों से आये इंचार्जों को धन्यवाद दिया।

Posted by: | Posted on: November 17, 2020

Coronavirus: कोरोना संक्रमित बढ़ने से एक्‍शन मोड में गुजरात सरकार

अहमदाबाद(जयप्रकाश उर्फ़ विक्की)। Coronavirus: कोरोना संक्रमितों की संख्‍या अचानक बढ़ने से गुजरात सरकार एक्‍शन मोड में आ गई है। अहमदाबाद सिविल हॉस्‍पिटल के किडनी व कैंसर विभाग में स्‍पेशल कोरोना वार्ड फिर खोले गए। साथ ही, मरीजों को शहर के दूसरे अस्‍पताल में जाने को कहा है, लेकिन हाल राज्‍य में लॉकडाउन से साफ इनकार किया है। मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी ने दीपावली के बाद कोरोना संक्रमितों की संख्‍या बढ़ने की आशंका जताते हुए सचेत रहने को कहा है। हालांकि सरकार ने किसी भी तरह के लॉकडाउन से इनकार किया है, लेकिन जरूरत पड़ने पर अनलॉक-5 की गाइडलाइन के मुताबिक, नए दिशा निर्देश जारी कर सकती है। आगामी 23 नवंबर से स्‍कूल, कॉलेज व विश्‍वविद्यालय भी खोले जाने हैं, इसलिए सरकार कोरोना को लेकर पूरी तरह सतर्कता बरती रही है।

उपमुख्‍यमंत्री नितिन पटेल सोमवार को अहमदाबाद में 1200 बेड के स्‍पेशल कोरोना सिविल अस्‍पताल पहुंचकर कोरोना महामारी की समीक्षा बैठक में शामिल हुए। उन्‍होंने बताया कि अहमदाबाद के सिविल अस्‍पताल में कोरोना संक्रमण से ग्रस्‍त 587 मरीज भर्ती हैं। इनमें से करीब 170 लोगों को आइसीयू व विशेष वार्डों में रखा गया है। त्‍योहारों के दौरान बाजार व सोसा‍यटियों में लोगों के एकत्र होने के कारण प्रदेशभर में कोरोना केस बढ़ सकते हैं। बीते रविवार अब तक सबसे अधिक 1070 केस सामने आए, इसके बाद सरकार एक्‍शन मोड में आ गई। नितिन पटेल ने 108 एंबुलेंस सेवा को इस मौके पर अलर्ट रहने के निर्देश देते हुए कहा कि नए कोरोना संक्रमित अब अहमदाबाद के सोला हॉस्‍पिटल में भर्ती हों। उन्‍होंने बताया कि सिविल अस्‍पताल में किडनी व कैंसर अस्‍पताल के वार्ड फिर से कोरोना संक्रमितों के लिए खोल दिए गए हैं। अब यहां पर भी कोरोना संक्रमित जांच व उपचार करा सकेंगे।

विजय रूपाणी ने मांगी कोरोना से मुक्ति की मन्‍नत

मुख्‍यमंत्री विजय रूपाणी गुजराती नव वर्ष पर सुबह गांधीनगर स्थित पंचदेव मंदिर में पत्‍नी अंजली के साथ पहुंचे। यहां रूपाणी दंपत्‍ति ने पूजा-अर्चना की तथा गुजरात की सुरक्षा, खुशहाली तथा कोरोना से मुक्ति दिलाने की मन्‍नत मांगी। इसके बाद रूपाणी अहमदबाद के भद्रकाली माता मंदिर पहुंचे। यहां रूपाणी आरती में शामिल हुए तथा बताया कि त्‍योहारों के दौरान शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया गया, इसलिए कोरोना के केसों में बढ़ोतरी होने की आशंका है। रूपाणी ने उम्मीद जताई कि नववर्ष में छह करोड़ गुजराती सुरक्षित व संपन्‍न बनेंगे तथा कोरोना महामारी से भी जल्‍द मुक्ति मिलेगी।