June, 2020

now browsing by month

 
Posted by: | Posted on: June 27, 2020

युवा जिला प्रधान समेत कई युवा इनेलो छोड़कर जेजेपी में हुए शामिल

दिल्ली/चंडीगढ़(विनोद वैष्णव )। शनिवार को रोहतक में उस समय इनेलो को बड़ा झटका लगा जब इनेलो के युवा जिला अध्यक्ष जयप्रकाश भाली समेत इनेलो के अनेकों युवा साथियों ने जेजेपी में शामिल होने की घोषणा की। दिल्ली में उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला व वरिष्ठ जेजेपी नेता दिग्विजय सिंह चौटाला ने पार्टी में शामिल हुए सभी युवा साथियों का पार्टी में स्वागत करते हुए कहा कि पार्टी में उन्हें पूरा मान-सम्मान मिलेगा। इनके अलावा जेजेपी में रोहतक के वार्ड नंबर 13 से जिला पार्षद धर्मबीर, वार्ड नंबर तीन से जिला पार्षद हरजीत, सुरेंद्र पटवारी बलम्बा आदि भी जेजेपी में शामिल हुए। इस अवसर पर पार्टी के युवा प्रदेशाध्यक्ष रविंद्र सांगवान मौजूद रहे।जेजेपी में शामिल हुए युवाओं ने कहा कि वे प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला की कार्यशैली व जननायक जनता पार्टी की नीतियों से प्रभावित होकर जेजेपी में शामिल हुए है। उन्होंने कहा कि दुष्यंत चौटाला और दिग्विजय चौटाला जैसी युवा शक्ति के साथ जुड़कर वे प्रदेश हित में कार्य करना चाहते है।इस अवसर पर जेजेपी युवा प्रदेश अध्यक्ष रविंद्र सांगवान ने कहा कि इन सभी के शामिल होने से रोहतक जिले में पार्टी को और मजबूती मिली है। उन्होंने कहा कि आगे भी इसी तरह अच्छे, मेहनती साथियों को पार्टी से जोड़ने का काम किया जाएगा।

Posted by: | Posted on: June 27, 2020

शिक्षाविद डॉ सतीश फौगाट ने कोर्ट में हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के खिलाफ याचिका दायर कर कहा, कोरोना संक्रमण काल में भी शिक्षा बोर्ड बच्चों के स्वास्थ्य को संकट में डालने की कर रहा कोशिश

फरीदाबाद(विनोद वैष्णव)।हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड की हठधर्मिता के खिलाफ शिक्षाविद डॉ सतीश फौगाट झुकने के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने बोर्ड द्वारा बार बार दसवीं परीक्षा परिणामों की तारीखों में बदलाव करने को अब चंडीगढ़ हाईकोई में चुनौती दे दी है। याचिकाकर्ता डॉ सतीश फौगाट के वकील सुनील कुमार नेहरा ने माननीय न्यायाधीश रामेंद्र जैन की अदालत में याचिका नंबर सीडब्ल्यूपी 8632/2020 पर अपना पक्ष रखा। जहां राज्य सरकार की ओर से अतिरिक्त मुख्य सचिव शिक्षा, निदेशक माध्यमिक शिक्षा और हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड सचिव को पार्टी बनाया गया था। मामले की अगली सुनवाई 13 जुलाई तय की गई है।

याचिकाकर्ता डॉ सतीश फौगाट ने बताया कि हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड अपनी हठधर्मिता के कारण लाखों बच्चों का भविष्य और उनके स्वास्थ्य को दांव पर लगाने पर आतुर है। बोर्ड में लगता है कि खुले मन से फैसले लेने की पंरपरा समाप्त हो चुकी है। यही कारण है कि कोरोना काल में भी बच्चों से परीक्षा लेने की जिद की जा रही है।

अधिकांश प्रवासियों के बच्चे अपने गृहजिलों की ओर कर चुके हैं रुख

हमने माननीय अदालत को बताया है कि हमारे स्कूल में अधिकांश प्रवासी लोगों के बच्चे शिक्षा ग्रहण करते हैं। जो कोरोना संक्रमण काल में अधिकांश अपने अपने गृह प्रदेशों की ओर रुख कर गए हैं। जिस कारण वह किसी भी प्रकार की परीक्षा में फिलहाल शामिल नहीं हो सकेंगे। इसलिए परीक्षाओं को कोरोना महामारी के नियंत्रित होने तक रोका जाए अथवा बच्चों के अब तक लिए जा चुके चार विषयों के प्राप्त अंकों के आधार पर पांचवें विज्ञान विषय के अंक देकर परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया जाए।

तर्कसंगत मांग पर भी बोर्ड दिखा रहा हठधर्मिता

याचिकाकर्ता डॉ. सतीश कुमार फौगाट ने बताया कि हमने कोई अलग से मांग नहीं की बल्कि तर्कसंगत मांग की है। लेकिन भिवानी बोर्ड बार बार परीक्षा परिणाम घोषित करने की तारीखें बदलने, पैटर्न बदलने आदि में ही लगा है। जबकि इन्हीें परिस्थितियों में हरियाणा की विभिन्न युनिवर्सिटियों में बच्चों को प्रमोट किया जा चुका है। जबकि उन्हें डिग्री के आधार पर कल प्रोफेशनल लाइफ में शामिल होना है। जबकि दसवीं कक्षा का बच्चा इंजीनियर या डाक्टर नहीं बन रहा है, बावजूद इसके उन्हें परीक्षा के नाम पर परेशान करने की कोशिश की जा रही है। यह और कुछ नहीं बल्कि बोर्ड की हठधर्मिता है।

सीबीएसई की परीक्षाओं पर भी रोक लगा चुका है सुप्रीम कोर्ट
डॉ फौगाट ने बताया कि इसी आधार पर सुप्रीम कोर्ट सीबीएसई द्वारा परीक्षाएं घोषित करने की कोशिश पर रोक लगा चुका है। जिससे लाखों बच्चों को अब बिना परीक्षा दिए इंटर्नल एसेसमेंट के आधार पर अगली कक्षाओं में प्रमोट किया जा सकेगा। इससे पूर्व तेलंगाना शिक्षा विभाग करीब 5.50 लाख विद्यार्थियों का एसेसमेंट के आधार पर फाइनल परीक्षा परिणाम दे चुका है वहीं तमिलनाडू करीब नौ लाख परीक्षार्थियों का परिणाम देने की तैयारी कर रहा है। केवल हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड ने ही इसे साख का विषय बना रखा है।

Posted by: | Posted on: June 27, 2020

बाबा रामकेवल ने मुंडन कराकर बीजेपी को चेताया : सुमित गौड़

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव )|आरटीआई कार्यकर्ताओं, पत्रकारों एवं समाजसेवियों द्वारा लगातार दर्ज हो रहे उत्पीडऩ के मुकदमें व हमले के विरोध में पिछले 24 दिनों से सेक्टर-12 स्थित लघु सचिवालय के समक्ष आमरण अनशन पर बैठे बाबा रामकेवल को शुक्रवार को हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं प्रदेश प्रवक्ता सुमित गौड़ ने अपना समर्थन देते हुए उनकी सभी मांगों को पूरी तरह से जायज करार दिया। सुमित गौड़ ने कहा कि भाजपा सरकार में अफसरशाही पूरी तरह से बेलगाम हो चुकी है, अधिकारी मनमानी करते है और बिना किसी तथ्यों व सच्चाई के लोगों में मुकदमें दर्ज कर दिए जाते है। उन्होंने यह भी कहा कि बाबा रामकेवल को धरने पर बैठे करीब 24 दिन हो चुके है परंतु किसी भी सत्तापक्ष के नेता एवं अधिकारी ने उनकी सुध नहीं ली है, ऐसे में इससे पता चला है कि भाजपा सरकार की नीति और नीयत दोनों ही खराब है। श्री गौड़ ने कहा कि बाबा रामकेवल आम जनता के हकों की लड़ाई लड़ रहे है और कांग्रेस पार्टी उनके इस संघर्ष में पूरी तरह से उनके साथ है और हर स्तर पर उनका सहयोग करेगी। वहीं बाबा रामकेवल ने आज धरनास्थल पर अपने बालों का मुंडन कराते हुए कहा कि उनके इस संघर्ष में आम जनता उन्हें पूरा सहयोग कर रही है, लेकिन प्रशासन ने पूरी तरह से चुप्पी साधी हुई है, लेकिन उसके बावजूद तब तक सरकार व प्रशासन की तानाशाही समाप्त नहीं हो जाती, उनका यह अहिंसात्मक प्रदर्शन जारी रहेगा, चाहे इसके लिए उन्हें अपने प्राणों की कुर्बानी ही क्यों न देनी पड़े। श्री गौड़ के अलावा बाबा रामकेवल को समर्थन देने के लिए कई समाजसेवी लोग भी धरनास्थल पर पहुंचे।

Posted by: | Posted on: June 27, 2020

डांस एकेडमी संचालको ने एकेडमी खोलने को लेकर जिला उपायुक्त के नाम सौपा ज्ञापन :-कसीना ऋषि

फरीदाबाद (विनोद वैष्णव )| फरीदाबाद के डांस एकेडमी संचालको ने सेक्टर 12लघु सचिवालय पर लोक डाउन की वजह से बेरोजगार हुए कलाकार ने प्रदर्शन कर जिला उपायुक्त के नाम सिटी मजिस्टेट बलिना को ज्ञापन सौंपा। इस अवसर पर अतुल त्यागी ने बताया की तीन महा से बंद पड़ी है जिसके कारण एकेडमी के संचालक बेरोजगार हो गए है। सभी एकेडमी किराए की जगह पर बनी हुई है। एकेडमी संचालक किराया देने में अक्षम है। उन्होंने कहाकि सरकार एकेडमी खोलने के गाइडलाइन जारी करें। जिससे एकेडमी संचालक एकेडमी चलाकर सक्षम बने। उन्होंने जिला उपायुक्त से गुहार लगाई है की जल्द ही सरकार उनके लिए निर्देश जारी नहीं करती तो दो,तीन महीने अगर अकैडमी नहीं खुलती है तो वह भी अपनी एकेडमी बंद कर देंगे और वह सड़क पर आ जाएंगे। उन्होंने कहाकि फरीदाबाद की काफी संख्या में म्यूजिक संस्थान हैं और बहुत सारे डांस एकेडमी हैं जो लॉक डॉन से बंद कर चुके हैं। क्योंकि वह किराया भरने में असमर्थ थे। सभी संचालको ने सिटी मजिस्ट्रेट को आश्वासन दिया है कि जब भी हमारी एकेडमी खोली जाएंगी और बच्चे आएंगे तो सरकार द्वारा दिए गए दिशा निर्देशों का हम पूरी तरह पालन करेंगे और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन करेंगे।इस मौके पर अंकुर त्यागी, अशोक, संजय, कसीना, सन्नी रावत, प्रिया दास, मानव, जयंत, अक्षय पांचाल, पंकज, राहुल, असलम, रोहित, ममता, प्रशांत, राजकुमार, राजेश आदि एकेडमी संचालक मौजूद थे।

Posted by: | Posted on: June 26, 2020

हरियाणा पत्रकार संघ का एक प्रतिनिधी मंडल राज्य के पत्रकारों की मांगों को लेकर आज करनाल में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मिला

चंडीगढ़/करनाल (विनोद वैष्णव )।हरियाणा पत्रकार संघ का एक प्रतिनिधी मंडल राज्य के पत्रकारों की मांगों को लेकर आज करनाल में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मिला । मांग पत्र में पत्रकारों को चिकित्सा बीमा देने, कोविड-19 में रहे बेरोजगार पत्रकारों को राहत पैकेज देने तथा लघु समाचार पत्रों को लाभकारी नई विज्ञापन नीति बनाने की एवं प्रेस मान्यता देने वाली कमेटी का गठन करने की माँग की गई की । इस बैठक में करनाल के सांसद संजय भाटिया भी उपस्थित थे ।

Posted by: | Posted on: June 26, 2020

प्रधानमंत्री जन कल्याणकारी योजना प्रचार प्रसार की जिला अध्यक्ष चित्रा शर्मा ने आम जन को मास्क, सैनेटाईजर, इम्युनिटी पावर बढ़ाने की दवाई सराय भाजपा मंडल के कार्यकर्ताओं के सहयोग से वितरित की

फरीदाबाद(विनोद वैष्णव )। वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव के लिए भारतीय जनता पार्टी द्वारा फरीदाबाद वासियों के लिए एक जागरूकता कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस कार्यक्रम के तहत आज सैक्टर-28, 29, 20, 31, सराय ख्वाजा, अशोका एनक्लेव, धीरज नगर, सैक्टर-19 व ओल्ड फरीदाबाद में प्रधानमंत्री जन कल्याणकारी योजना प्रचार प्रसार की जिला अध्यक्ष चित्रा शर्मा ने आम जन को मास्क, सैनेटाईजर, इम्युनिटी पावर बढ़ाने की दवाई सराय भाजपा मंडल के कार्यकर्ताओं के सहयोग से वितरित की।
जिलाध्यक्षा चित्रा शर्मा ने बताया कि इस महामारी से बचाव के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर व प्रधानमंत्री जन कल्याणकारी योजना प्रचार प्रसार की प्रदेेशाध्यक्ष राजबाला नरवाल के निर्देशों पर भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा पूरे प्रदेश में जन जागरूकता अभियान चलाकर मास्क, सेनेटाईजर व दवाईयों का वितरिण किया जा रहा है। इस सामग्री को केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर, नगर निगम के वरिष्ठ उप महापौर देवेंद्र चौधरी, भाजपा जिला अध्यक्ष गोपाल शर्मा द्वारा कार्यकर्ताओं को सौंपा गया। जिसके बाद इन्हें आम जन में वितरित किया गया। इस अवसर पर आम जन को कोरोना बीमारी से बचाव के लिए शारीरिक दूरी बनाने, भीड़भाड़ वाले स्थानों से दूर रहने, बैंकों, राशन डिपूओं पर व सवारियों से भरे आटो में जाने से बचने की अपील की।


मास्क एवं सैनेटाईजर वितरण के दौरान भाजपा के वरिष्ठ नेता दिनेश राजपूत, बलराज गुप्ता, सीएम सोनी, बिंदु कॉल, शिवकुमार हल्दकर, आदित्य भसीन, स्नेह लता, कोमल पाराशर आदि कार्यकर्ता मौजूद थे।

Posted by: | Posted on: June 24, 2020

🙉🙉🇮🇳 कर कर सर्वे मर गए 🇮🇳🙉🙉

आपदा में कर्मचारी कर कर सर्वे मर गए
कुछ अधिकारी पीढ़ियों का इंतजाम कर गए।
राशन पानी आएगा कुछ बाबूजी ने बोला था
इंतजार में यूं जनता के पेट खुद ही भर गए।
करना धरना कुछ नहीं टी वी पर आते हैं रोज
चुन के मुखिया सूबों के छाती पे ऐसे धर गए।
कोरोना योद्धा बने और, ले लिए प्रमाणपत्र
अखबारों में छप छपाकर,वो तो अपने घर गए।
आधा मिलता मेहनताना, काम दुगना हो गया
खुश होकर कर रहे गुजारा ,बेकारी से डर गए।
कोई भी अपना नहीं है मजदूरों ने जाना जब
सैंकड़ों मिलों चले और लौट अपने दर गए।
रक्षक,शिक्षक और चिकित्सक डटे हैं मैदान में
स्वच्छता के और सिपाही मन मेरा भी हर गए।

देवेंद्र गौड़ (कवि)

Posted by: | Posted on: June 24, 2020

भारतीय नरेंद्र मोदी संघ हरियाणा में हुई हिमांशू मिश्रा की प्रदेश सह सोशल मिडिया प्रभारी पद पर नियुक्ति

दिल्ली (दीपक शर्मा )|भारतीय नरेंद्र मोदी संघ के हरियाणा प्रदेश प्रदेशाध्यक्ष श्री अनिल जौहर जी ने संगठन एवं सरकार के कार्यों को सोशल मिडिया व् डिजिटल तरीके से ज्यादा सक्रियता के साथ समाज के हर वर्ग तक पहुंचाने के लिए हरियाणा प्रदेश में सह सोशल मीडिया प्रभारी की यह ज़िम्मेदारी हिमांशु मिश्रा को सौंपी है।उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता फेसबुक, ट्विटर, वाट्सअप पर सक्रिय रहें और संगठन के कार्यों तथा केंद्र व राज्य सरकार की योजनाओं को जनता तक पहुंचाएं।वहीं हिमांशु मिश्रा ने हरियाणा प्रदेश प्रदेशाध्यक्ष अनिल जौहर,फरीदाबाद के जिलाध्यक्ष भाई शशांक जैन व् संगठन के सभी पदाधिकारियों का धन्यवाद किया।उन्होंने आश्वश्त किया है की वह संगठन द्वारा की गयी इस नियुक्ति का पूरी ज़िम्मेदारी के साथ निर्वहन करेंगे।

Posted by: | Posted on: June 24, 2020

वृन्दावन – एक दिव्य दैविक धाम :-डॉ मीनाक्षी पांडेय

वृन्दावन एक ऐसा पावन पवित्र और आध्यात्म से परिपूर्ण धाम है जहाँ पहुंचते ही व्यक्ति का मन भक्तिमय ,कृष्णमय और राधामय हो जाता जाता है जिसकी अभिव्यक्ति शब्दों से नही की जा सकती है , श्री वृन्दावन धाम में कृष्ण का बचपन बीता ,जहाँ उन्होंने गोपियों के साथ नृत्य किया, श्री वृन्दावन धाम को गोलोक धाम भी कहते हैं क्योकि वो श्री क्रृष्ण का निज धाम है। गोलोक का मतलब है श्री भगवान की नितसँगी गोपियाँ ,गोलोक का मतलब है श्री कृष्ण की परमप्रिय गायें और गोलोक का मतलब है ग्वालवाल तो इसका अभिप्राय ये है जहाँ कि भगवान श्री कृष्ण की परमप्रिय गायें ,ग्वालवाल और गोपियां विराजमान हैं वही वृन्दावन धाम है।

श्री वृन्दावन धाम को चिन्तामणि धाम भी कहते हैं क्यूँकि उस धाम के परिसर में पहुंचते ही व्यक्ति के जीवन की सारे दुःख ,बाधाएं और परेशानियां स्वतः विलुप्त हो जाती हैं और बस व्यक्ति का मन भक्तिरस में डूब जाता है, इसलिए श्री वृन्दावन धाम को आनंद धाम भी कहते हैं क्योंकि इस भूमि पर व्यक्ति को एक अनोखे सुख का एहसास होता है इस सबका एक प्रत्यक्ष प्रमाण है ब्रजधाम में रहने वाले लोग और संपूर्ण विश्व से ब्रजधाम पहुंचने वाले लोगों का अनुभव इस बात का प्रमाण देता है। श्री वृन्दावन वो तपोवन है जहाँ का एक एक घर मंदिर है ,वहां पेड़ ,पत्ते ,लता पताओं में सकती। वृन्दावन वह स्थान है जहाँ भगवान सिर्फ श्री कृष्ण और श्रीमती राधारानी की गूँज सुनायी देती है.

मथुरा मंडल में साढ़े बीस योजन में फैले हुए भूभाग को ऋषियों और मुनियों ने दिव्य ” ब्रजधाम” की उपाधि दी है ,श्री ब्रज वृन्दावन धाम श्री कृष्ण और राधा रानी की क्रीड़ास्थली भी है जो साक्षात् बैकुंठ से भी परम उत्कृष्ट है। जहाँ साक्षात यमुना हैं ,गोवर्धन गिरिराज हैं ,जहाँ बरसाना है नंदीश्वर गिरिराज हैं ,सुन्दर और अद्भुत मंदिर हैं, कई घाट हैं ,हरे भरे उपवन हैं ,वृंदा (तुलसी) वाटिकाएँ हैं ,देवपुष्प परिजात आदि के कुञ्ज हैं ,जहाँ सूंदर गायें स्वछंद विचरण करती रहती हैं ,जहाँ पवित्रता है ,सुगंध है ,असीम शांति है ,घर घर में मंदिर हैं ,निधिवन की सुन्दर लता पताएं हैं और छोटे छोटे तुलसी के पेड़ हैं और यहाँ तुलसी का हर पौधा जोड़े में है। मान्यता है की जब श्री कृष्ण और राधारानी रासलीला करते हैं तो ये तुलसी के पौधे गोपियाँ बन जाती हैं और हर सुबह होने पर तुलसी का पौधा बन जाती हैं। वृन्दावन -निधिवन की रहस्यमयी कहानियों से शायद ही कोई अपरिचित हो। इसके अलावा ,निधिवन के पेड़ मनुष्य के आकर के दिखाई देते हैं जो अलग अलग मुद्राओं में खड़े रहते हैं। यहाँ की सबसे बड़ी खासियत ये है की यहाँ लगे वृक्षों की शाखाएं ऊपर की ओर से ना विकसित होकर नीचे की ओर से बढ़ती हैं। वहाँ के स्थानीय लोगों का ऐसा मानना है कि शाम के बाद कोई इस वन की और नही देखता। जिन लोगों ने भी इसे उत्सुकता वश देखने का प्रयास किया वो या तो अंधे हो गए या पागल हो गए। वृन्दावन के बुजुर्ग लोग इस वन से जुडी कई रहस्यमयी कहानियाँ बताते हैं।
“वृन्दावनं परित्यज्य सा कवासिन नैवा गच्छेति” – चैतन्य चरितमृत, श्री कृष्ण ने वृंदावन को कभी नहीं छोड़ा।ब्रज का कण कण श्री कृष्ण चरणों से चिन्हित है, यह हमें नित्य ही श्री कृष्ण की याद दिलाता है । श्री कृष्ण को भला कोई ब्रज में कैसे भूल सकता है. श्री वृन्दावन धाम श्रीमती राधा रानी को प्राण से भी ज्यादा प्रिय है इसकी चर्चा निम्न लिखित कथा में है साक्षात् परिपूर्ण तम भगवन श्री कृष्ण जो असंख्य ब्रम्हाण्डों के अधिपति और “गोलोक ” के नाथ हैं जब पृथ्वी का भार उतारने स्वयं इस भूतल पर आने लगे तब श्री कृष्णा ने श्री राधा रानी से भूतल पर साथ चलने को कहा इस पर श्री राधा रानी बोलीं ” कि हे कृष्ण जहाँ वृन्दावन नही है ,जहाँ कालिंदी यमुना का किनारा नही ,जहाँ यमुना के घाट न हों और जहाँ गोवर्धन पर्वत नहीं ,वहां मेरे मन को शांति नही मिलती है. श्री राधारानी की यह बात सुनकर श्री कृष्णा ने अपने धाम से चौरासी कोस विस्तृत भूमि ,गोवर्धन पर्वत और यमुना नदी को भूतल पर भेजा और तब गोलोक भूमि २४ वनों के साथ ,चौरासी कोस विस्तार के साथ भूतल पर अवतरित हुई। इस प्रकार वृन्दावन एक ऐसा देवधाम है जिसकी व्याख्या करने के लिए शब्द भी काम पड़ते हैं जिसे समस्त देवता भी पसंद करते हैं। वृन्दावन की खासियत वहां के हरे भरे पेड़ ,लता पताएं , वृक्ष ,स्वछन्द बहती यमुना नदी ,वह का पवित्र वातावरण ,चहचहाते पक्षी ,पुराने वृन्दावन स्थित वंशीवट ,सुदामा कुटी ,यमुना रानी,गोपेश्वर मंदिर गौशालाओं में

वृन्दावन धाम वो पवित्र स्थल है जो भगवान श्रीकृष्ण की लीलाओं से जुडा हुआ है। यहाँ पर श्री कृष्ण और राधा रानी के मन्दिरों की विशाल संख्या है। यहाँ स्थित बांके विहारी जी का मंदिर, श्री गरुड़ गोविंद जी का मंदिर व राधावल्लभ लाल जी का मंदिर प्राचीन है। इसके अतिरिक्त यहाँ श्री राधारमण, श्री राधा दामोदर, राधा श्याम सुंदर, गोपीनाथ, गोकुलेश, श्री कृष्ण बलराम मन्दिर, पागलबाबा का मंदिर, रंगनाथ जी का मंदिर, प्रेम मंदिर, श्री कृष्ण प्रणामी मन्दिर, अक्षय पात्र, निधि वन आदि दर्शनीय स्थान है।यह कृष्ण की लीलास्थली है। हरिवंश पुराण, श्रीमद्भागवत, विष्णु पुराण आदि सभी ग्रंथों में वृन्दावन की महिमा का वर्णन है कि श्री वृन्दावन – एक दिव्य दैविक धाम है, वृन्दावन की खासियत वहां के हरे भरे पेड़ ,लता पताएं , वृक्ष ,स्वछन्द बहती यमुना नदी ,वहाँ का पवित्र वातावरण ,चहचहाते पक्षी ,पुराने वृन्दावन स्थित वंशीवट ,सुदामा कुटी ,यमुना रानी,गोपेश्वर मंदिर, गौशालाओं में सुन्दर गायें , यहाँ के सघन कुंजों में तरह तरह के रंग बिरंगी पुष्प और ऊँचे ऊँचे घने वृक्ष मन को उल्लास से भर देता है और आँखों को शीतलता प्रदान करते हैं वृन्दावन का कण कण रसमय है इसे गोलोक धाम से अधिक मन जाता है।

यही कारण है कि जिसने एक बार वृन्दावन धाम में भक्तिरस का पान कर लिया फिर वो वृन्दावन के बगैर नही रह सकता क्योकि उन्हें वृन्दावन धाम में जगह जगह ठाकुर जी के दर्शन करके अद्भुत शांति मिलती है वहाँ उन्हें नकारात्मकता से दूर प्रतिदिन एक खुला वातावरण ,पक्षियों का कलरव ,साधू संतों का दर्शन ,हरिनाम संकीर्तन ,भागवत ,वेदों ,शास्त्रों ,पुराणों का हर पल पाठों में सम्मिलित होना , मंदिरों की सुबह शाम संध्या आरती में सम्मिलित होना एक आंतरिक शक्ति देता है और उनके ह्रदय मेंन,शरीर में एक अद्भुत ऊर्जा का संचार करता है। छोटे छोटे बच्चों से लेकर बड़ी उम्र के लोग भी भागवत महापुराड़ का पाठ करते हैं।

श्री कृष्ण और राधारानी के बिना वृन्दावन की कल्पना अधूरी है श्री कृष्ण का अवतार एक पूर्ण अवतार माना जाता है। ये कितने गर्व की बात है की असंख्य ब्रह्माण्डों के स्वामी श्री कृष्ण गोलोक धाम में विराजते हैं श्री कृष्ण भगवन एक पूर्ण अवतार हैं। जिनके पास नौ रसों की अभिव्यक्ति है बल और पराक्रम में जिनसे कोई जीत नही सकता ,जो परम पराक्रमी हैं और सोलह कलाओं में निपुड़ हैं उन ठाकुर कृष्ण चंद्र के चरणों में मेरा बारम्बार प्रणाम है और भगवान के इस अवतार को हम ‘पूर्णावतार’ मानते हैं क्योंकि श्री कृष्ण ने एक कार्य के उद्देश्य से अवतार लेकर अनेकों शुभ कार्य सम्पादित किये। गोविन्दम् आदि पुरुषं तम् अहं भजामि

“गोविन्दम् आदि पुरुषं तम् अहं भजामि,वेनणुम् क्वणन्तारविन्द दलायताक्षम्,बार्हावतंसम् असिताम्बुद सुन्दरााङ्गम्कन्दर्प कोटि कमनीय विश्ऽएष श्ऽओभम्”

“हे गोविन्द आप ही आदि पुरुष हो , आप ही पुरुषोत्तमोत्तम एवं परात्पर पुरुष परमेश्वर हो। भगवान श्री कृष्ण गोलोक वृन्दावन के स्वामी हैं समस्त ब्रजमंडल के स्वामी हैं, ठाकुर श्री कृष्ण को श्री वृन्दावन धाम ह्रदय से भी ज्यादा प्यारा है इसलिए उन्हें वहां के ब्रजवासियों से भी बहुत प्रेम था इसके बहुत से रोचक तथ्य पुराणों में उपलब्ध है जैसे ब्रजवासियों को इंद्र के क्रोध और वर्षा से बचाने के लिए गोवर्धन पहाड़ को अपनी ऊँगली पे धारण किया था और इसी प्रकार ब्रजवासियों की कई बार ठाकुर कृष्णा ने रक्षा की।

भगवान श्रीकृष्ण एक राजनीतिक, आध्यात्मिक और योद्धा ही नहीं थे वे हर तरह की विद्याओं में पारंगत थे। श्रीकृष्ण ने धर्म, राजनीति, समाज और नीति-नियमों का व्यवस्थीकरण किया था। था। प्रचलित जनश्रुति अनुसार माना जाता है कि भगवान श्री कृष्ण शरीर से मादक गंध निकलती रहती थी और श्रीकृष्‍ण के शरीर से निकलने वाली खुशबु गोपिकाचंदन और कुछ-कुछ रातरानी की सुगंध से मिलती जुलती थी।इसके अलावा भगवन श्री कृष्ण एक महायोगी भी थे। भगवान श्रीकृष्ण ने वेद और योग की शिक्षा दीक्षा उज्जैन स्थित महर्षि सांदीपनि के आश्रम में रहकर हासिल की थी। कृष्ण के पास सुदर्शन चक्र था जिसे युद्ध में सबसे घातक हथियार माना जाता था। श्री कृष्ण के मिट्टीखाने पर जब यशोदा माँ ने उनसे नाराज होकर उन्हें मुँह खोल के दिखने को कहा तो भगवन ने अपनी माया द्वारा माता यशोदा को अपने मुंह के भीतर ब्रह्मांड के दर्शन कराया था , वहीं उन्होंने महाभारत युद्ध में अर्जुन को अपने विराट स्वरूप का दर्शन कराकर उसका मोह भ्रम दूर किया था। दूसरी ओर उन्होंने कौरवों के दरबार में द्रौपदी के चीरहरण के समय उसकी लाज बचाई थी। इस तरह कृष्ण के चमत्कार और माया के कई किस्से हैं, एक योगी होने के कारण ,वे योग में पारगत थे ,और कई बार घंटों योग में लीं हो जाते थे तथा योग द्वारा जो भी सिद्धियां उन्हें स्वत: ही उन्हें प्राप्त हो जाती थी।

श्री कृष्ण के पास यूं तो कई प्रकार के दिव्यास्त्र थे। लेकिन सुदर्शन चक्र मिलने के बाद सभी ओर उनकी साख बढ़ गई थी। शिवाजी सावंत की किताब ‘युगांधर अनुसार’ श्रीकृष्ण को भगवान परशुराम ने सुदर्शन चक्र प्रदान किया था, तो दूसरी ओर वे पाशुपतास्त्र चलाना भी जानते थे। पाशुपतास्त्र शिव के बाद श्रीकृष्ण और अर्जुन के पास ही था। इसके अलावा उनके पास प्रस्वपास्त्र भी था, जो शिव, वसुगण, भीष्म के पास ही था।

इस प्रकार हम कह सकते हैं की श्री कृष्ण का बचपन गोकुल, वृंदावन, नंदगाव, बरसाना आदि जगहों पर बीता। द्वारिका को उन्होंने अपना निवास स्थान बनाया और सोमनाथ के पास स्थित प्रभास क्षेत्र में उन्होंने देह छोड़ दी। दरअसल भगवान कृष्ण इसी प्रभाव क्षेत्र में अपने कुल का नाश देखकर बहुत व्यथित हो गए थे। वे तभी से वहीं रहने लगे थे। महाभारत का युद्द समाप्त होने पर एक दिन वे एक वृक्ष के नीचे विश्राम कर रहे थे तभी किसी बहेलिये ने उनको हिरण समझकर तीर मार दिया। यह तीर उनके पैरों में जाकर लगा और तभी उन्होंने देह त्यागने का निर्णय ले लिया। एक दिन वे इसी प्रभाव क्षेत्र के वन में एक पीपल के वृक्ष के नीचे योगनिद्रा में लेटे थे, तभी ‘जरा’ नामक एक बहेलिए ने भूलवश उन्हें हिरण समझकर विषयुक्त बाण चला दिया, जो उनके पैर के तलुवे में जाकर लगा और भगवान श्रीकृष्ण ने इसी को बहाना बनाकर देह त्याग दी। जनश्रुति अनुसार भगवान श्रीकृष्ण ने जब देहत्याग किया तब उनकी देह के केश न तो श्वेत थे और ना ही उनके शरीर पर किसी प्रकार से झुर्रियां पड़ी थी। अर्थात वे 119 वर्ष की उम्र में भी युवा जैसे ही थे।

इस प्रकार श्री ब्रजधाम के विषय में चर्चा इतनी अनंत है जिसे थोड़े से शब्दों से अभिव्यक्ति नही की जा सकती इसलिए मई इसी प्रकार बीच बीच में श्री वृन्दावन धाम से जुडी हुई कृष्णा कथाएं, ब्रज धाम के प्रसिद्ध मंदिर ,वहाँ के मंदिरों से जुड़े कुछ रहस्यों के साथ एक बार फिर लौटूंगी।

वृन्दावन से जुड़े हुए किसी भी विषय पे चर्चा करने के लिए जुड़ें-:

राधे राधे !
डॉ. मीनाक्षी पाण्डेय
प्रोफेसर, हेड
स्कूल ऑफ़ कॉमर्स एंड मैनेजमेंट,
लिंगयास यूनिवर्सिटी
Email: kaushikmeenakshi36@gmail.com

Posted by: | Posted on: June 24, 2020

राष्ट्रीय इंटक मजदूर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश सुंदरियाल ने धरने पर बैठे विधायक नीरज शर्मा को समर्थन दिया :-राजेश आर्या

फरीदाबाद(विनोद वैष्णव):-राष्ट्रीय इंटक मजदूर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश सुंदरियाल का हरियाणा में इंडिया समूह की सबसे बड़ी औधौगिक इकाई JCB India Ltd के विरुद्ध 1000 श्रमिको को बाहर निकाले जाने के कारण मजदूरों के लिए उनके हक हकूक की लड़ाई लड़ने के लिए JCB India Ltd Faridabad मथुरा रोड पर धरने पर बैठे विधायक नीरज शर्मा एन आई -86 फरीदाबाद हरियाणा को राष्ट्रीय इंटक मजदूर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश सुंदरियाल ने अपना समर्थन नीरज शर्मा को भेज दिया है।और अपने मजदूर कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव व प्रभारी राजस्थान भाई राजेश आर्या को सम्पूर्ण श्रमिक विरोधी कारणों की विस्तृत जानकारी देने और मजदूरों की पल पल की स्थिति की समीक्षा के लिए धरना स्थल से सम्पूर्ण ब्यौरा देने की जिम्मेदारी सौंपी गई।राष्ट्रीय इंटक मजदूर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश सुंदरियाल का कहना है।इस तरह की कोई भी औधौगिक इकाईयों के द्वारा पूरे देश में किसी भी श्रमिक विरोधी प्रोपगंडा को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। राष्ट्रीय इंटक मजदूर कांग्रेस सदैव मजदूरों के साथ है।और हम इस तरह की घटनाओं पर चुपचाप बैठे तमाशा नही देख सकतें है।हम सभी मजदूर कामगारों को उनके हक हकूक की लड़ाई में पूरे देश वासियों के साथ है।